October 22, 2021

अल्मोड़ा: युवाओं के टीके का बढ़ा संकट, टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण की रूकी रफ़्तार, स्लॉट भी हुए कम।

 216 total views,  2 views today

पूरे देश में कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए कोरोना टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें अब बड़ी संख्या में युवावर्ग भी वैक़्सीनेशन करवा रहे हैं। उत्तराखंड में भी टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण चल रहा है। अल्मोड़ा जिले में भी अभियान तो चल रहा है, लेकिन टीकाकरण की रफ़्तार रूकी हुई है। अल्मोड़ा में युवाओं के टीके का संकट बना हुआ है।

युवाओं के टीकाकरण अभियान की रफ़्तार रूकी-

अल्मोड़ा जिले में 18 से 44 वर्ष उम्र के युवाओं के लिए टीके पर संकट बना हुआ है। टीके की कमी के चलते अभियान रफ्तार नही पकड़ पा रहा है। यहां युवाओं के लिए करीब एक हजार टीके की डोज बची हुई है। वही बड़ी संख्या में अभी भी युवाओं का टीकाकरण नहीं हुआ है।

केंद्रों में स्लॉट भी हुए कम-

वही विभागीय अधिकारियों का दावा है कि दो तीन दिन के भीतर युवाओं के लिए वैक्सीन का नया स्टॉक उपलब्ध हो जाएगा। जिससे अभियान में तेजी आने की उम्मीद है। वही वैक्सीन की कमी के बीच केंद्रों में स्लॉट भी कम कर दिए गए हैं। पहले जहां जिला मुख्यालय के दो केंद्रों में 100-100 युवाओं को टीका लग रहा था। इन दिनों यह संख्या 60 से 70 हर गई है। जबकि अन्य केंद्र में 30 से 50 स्लॉट ही बुक किए जा रहे हैं। स्लॉट बुक नही होने से युवाओं को खासी परेशानी झेलनी पड़ रही है।

रविवार को युवाओं का नहीं होगा टीकाकरण-

कोरोना टीकाकरण अभियान में इस बार रविवार को 45 साल से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण किया जाएगा। लेकिन युवाओं के लिए रविवार को टीकाकरण नहीं हो सकेगा।

कोविशील्ड टीके की 1000 डोज बची-

वर्तमान में युवाओं के लिए जिले में एक हजार डोज कोविशील्ड टीके की बची हुई है। हालाकि दो तीन दिन के भीतर युवाओं के लिए कोविशील्ड की खेप पहुंचने की उम्मीद है।

10 मई से शुरू हुआ था तीसरे चरण का टीकाकरण-

अल्मोड़ा में 10 मई से युवाओं का टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था। शुरुआत में 12 से 15 केंद्रों में टीकाकरण किया गया। लेकिन कुछ दिन पूर्व टीके की कमी होने लगी, जिससे युवाओं के लिए बनाए गए तीन टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए गए।