October 23, 2021

देश में एस्परगिलोसिस फंगस के बढ़ने लगे मामले, जाने इसके लक्षण और कैसे करें बचाव।

 324 total views,  2 views today

भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर कम हो रहा है तो फंगस के बढ़ते मामलों ने चिंता बढ़ा दी है। ब्लैक फंगस, व्हाइट फंगस और येलो फंगस के बाद अब एस्परगिलोसिस फंगस के मामले बढ़ने लगे हैं।

एस्परगिलोसिस फंगस के बढ़ने लगे मामले-

एस्परगिलोसिस फंगस ने भी अपनी दस्तक दे दी है। यह फंगस का मामला वडोदरा से सामने आया है। गुजरात के वडोदरा में एस्परगिलोसिस फंगस के अब तक 8 मामले सामने आए हैं और यह मामले अब बढ़ने लगे हैं।

एस्परगिलोसिस इन लोगों को अधिक करता है प्रभावित-

एस्परगिलोसिस एक संक्रमण, एलर्जी की रिएक्शन, या एस्परगिलस फंगस की वजह होने वाला फंगल ग्रोथ है, जो आमतौर पर मृत पत्तियों और सड़ने वाली वनस्पति पर बढ़ता है। इससे कमजोर इम्यून सिस्टम या फेफड़ों की बीमारी वाले लोगों को संक्रमित करने की ज्यादा संभावना होती है।

एस्परगिलोसिस फंगस के लक्षण-

एस्परगिलोसिस एस्परगिलस के कारण होने वाला एक संक्रमण है, जो एक प्रकार का फंगस है जो घर के अंदर और बाहर रहता है। इसमें स्वास्थ्य समस्याओं का अधिक खतरा होता है। एस्परगिलस के कारण होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं में एलर्जी प्रतिक्रियाएं, फेफड़ों में संक्रमण और अन्य अंगों में संक्रमण बढ़ने लगता है।

एस्परगिलोसिस से बचाव-

एस्परगिलोसिस का इलाज आमतौर पर वोरिकोनाजोल से किया जाता है। ब्लड टेस्ट के जरिए संक्रमण के लिए जल्दी टेस्ट करने से भी फायदा हो सकता है। जिससे एस्परगिलोसिस फंगस को शरीर में फैलने से रोका जा सके। वही बहुत ज्यादा धूल वाले क्षेत्रों से दूर रहें।