December 7, 2021

चंपावत: जिलाधिकारी की अध्यक्षता में मुख्यमंत्री सीमांत क्षेत्र विकास योजना तथा मुख्यमंत्री पलायन रोकथाम योजना पर विचार विमर्श हेतु बैठक आयोजित हुई

 1,921 total views,  2 views today

चंपावत:  जिलाधिकारी श्री विनीत तोमर की अध्यक्षता में मंगलवार देर सायं जिला कार्यालय सभागार में मुख्यमंत्री सीमांत क्षेत्र विकास योजना तथा मुख्यमंत्री पलायन रोकथाम योजना की 2021-22 की कार्ययोजना पर विचार विमर्श हेतु जिला स्तरीय स्क्रीनिग कमेटी की बैठक आयोजित हुई।

समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने समस सम्बंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए

बैठक में समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने समस्त खंड विकास अधिकारीयों, विभिन्न कार्यदाई संस्थाओं एवं विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह वित्तीय वर्ष में शत-प्रतिशत धनराशि व्यय हो सके एवं लक्ष्यों की प्राप्ति पूर्ण करने व सभी निर्माण कार्यों को वित्तीय वर्ष में ही पूर्ण किए जाने हेतु अपने स्तर पर एक वार्षिक प्लान तैयार कर उसके अनुरूप कार्य करें। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी जनउपयोगी कार्यक्रमों को प्राथमिकता देते हुए कार्य करना सुनिश्चित करें। अधिकारी यह भी ध्यान दें कि जनता या व्यक्ति द्वारा जो भी समस्याएं उन्हें अवगत कराए जाते हैं, कम से कम समय पर उसका समाधान हो ऐसे प्रयास किए जाएं। बैठक में जिलाधिकारी ने कार्यदाई संस्था जिला पंचायत एवं ग्रामीण निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि उनके द्वारा जो भी निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं वह निर्धारित समय पर पूर्ण होने अत्यंत आवश्यकीय हैं। उन्होंने सभी विभागीय अधिकारियों को नियमानुसार कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि अपनी कार्यप्रणाली में बेहतर सुधार लाते हुए, शासन की मंशा के अनुरूप योजना में निर्धारित मानक के अनुसार कार्य संपन्न किए जाएं।उन्होंने बी0ए0डी0पी की समीक्षा के दौरान पिछले वित्तीय वर्ष में अवशेष कार्य शीघ्रता से पूर्ण करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।

जो कार्य पूर्ण हो गए उनका भौतिक निरीक्षण किया जाए

उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी राजेन्द्र सिंह रावत को निर्देश दिए कि जो भी कार्य पूर्ण हो गए है, उन कार्यों का भौतिक निरीक्षण करें। जिलाधिकारी ने कहा कि विभिन्न विभागों के द्वारा योजना के अंतर्गत डपटलिंग के माध्यम से जो भी कार्य कराए जाने हैं, वह सभी कार्य समय पर पूर्ण कर लिए जाए। उन्होंने कहा कि जनपद के विकास एवं जनता के हित के लिए जो भी संभावना है उन कार्यों को प्राथमिकता देते हुए स्वरोजगार सृजित करें। किसी भी विकास कार्य को सफलतापूर्वक निर्धारित समय पर पूर्ण करने हेतु विभिन्न विभागों के मध्य समन्वय होना अत्यंत आवश्यक है। इस हेतु सभी संबंधित विभाग विभाग आपसी समन्वय के साथ कार्य करना सुनिश्चित करें।
जिलाधिकरि ने बी0ए0डी0पी के तहत आजीविका और रोजगार के महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर स्वीकृति प्रदान की। उन्होंने कहा सम्बंधित विभाग जनपयोगी प्रस्ताव 2 दिन के भीतर प्रेषित करें।

यह लोग रहे उपस्थित

बैठक में प्रभागीय वनाधिकारी मयंक शेखर झा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आर0पी खण्डूरी, मुख्य शिक्षा अधिकारी आर0सी0पुरोहित, एपीडी विमी जोशी, जिला विकास अधिकारी सन्तोष कुमार पंत, मुख्य कृषि अधिकारी राजेन्द्र उप्रेती, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी बीएस जंगपांगी, एएमई राजेश कुमार, बीडीओ चंपावत कमल किशोर पांडे, पाटी अमित ममगई, ईई आर0डब्लू0डी केके जोशी, ईई लोनिवि एमसी पांडे, जिला पर्यटन अधिकारी लता बिष्ट, जिएमडीआइसी मीरा बोहरा समेत अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।