October 17, 2021

जिला मिष्ठान विक्रेता संघ अल्मोड़ा के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह पवार ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर जताई चिंता, व सरकार द्वारा लगाए कोविड कर्फ्यू पर जताई नाराजगी।

 93 total views,  2 views today

पूरे देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर तेजी से फैल रही है। जिसकी चपेट में सभी उम्र के लोग आ रहे हैं। कोरोना संक्रमण धीरे- धीरे विकराल हो रहा है। जहाँ कही न कही आम जनता की भी लापरवाही सामने आ रही है। वही कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों पर जिला मिष्ठान विक्रेता संघ अल्मोड़ा के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह पवार ने भी चिंता जताई है।

जिला मिष्ठान विक्रेता संघ अल्मोड़ा के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह पवार ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर व्यक्त की चिंता-

पूरा देश कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के प्रकोप से जूझ रहा है, वही कोरोना संक्रमण से  हालात भी बेकाबू हो रहे हैं। जिस पर जिला मिष्ठान विक्रेता संघ अल्मोड़ा के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह पवार ने भी चिंता व्यक्त की।

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों में आम जनता की लापरवाही भी आ रही सामने-

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों में कहीं न कही लोगों द्वारा कोविड-19 नियमों का पालन न करना भी सामने आया है। जिसमें लोगों द्वारा सार्वजनिक जगहों में मास्क न पहनना, भीड़ बढ़ाना, जिसमें सामाजिक दूरी का बिल्कुल पालन न करना। बेवजह घरों से बाहर निकलना आदि लापरवाही सामने आ रही है।

राज्य सरकार की लापरवाही भी आ रही है सामने-

मनोज सिंह पवार ने रोष व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण के निरंतर बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए जन सुरक्षा की दृष्टिगत पूर्व में जारी आदेश को अतिक्रमित करते हुए जो नए नियम आज से लागू किए गए हैं, उन्हें राज्य सरकार द्वारा कल देर सांय जारी किया गया। जिससे सरकार द्वारा अचानक लिए गए निर्णयों से आम जनता, मिष्ठान विक्रेताओं और व्यापारियों को भी दिक़्क़तों का सामना करना पड़ रहा है।

कच्चे माल विक्रेताओं में मिठाई विक्रेताओं को हो रहा सबसे अधिक नुकसान-

राज्य सरकार द्वारा अचानक कोविड-19 की गाइडलाइन जारी करने से व्यापारियों खासकर कच्चे माल विक्रेताओं व आम जनमानस को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। जिसमें कच्चे माल विक्रेताओं में मिठाई विक्रेताओं को सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। जिसके चलते गर्मी बढ़ने के कारण कई मिठाईयां 1 से 2 दिन में खराब हो जाती है। जिसके बाद उन मिठाइयों को मिष्ठान विक्रेताओं द्वारा दूसरे दिन नष्ट करना पड़ेगा। जिससे आर्थिक संकट भी बढ़ेगा। वही पिछले वर्ष से अभी तक व्यापारी आर्थिक नुकसान झेल रहा है और अब पुनः ऐसे अचानक जारी निर्णयो से और अधिक नुकसान व्यापारियों के लिए दिक़्क़त खड़ी कर रहा है।

कोविड-19 की कोई भी नई गाइडलाइन जारी करते समय कम से कम 24 घंटे का समय देने के लिए राज्य सरकार से किया अनुरोध-

कोरोना संक्रमण के फैलते वायरस के चलते अब सरकार द्वारा कोविड-19 की कोई भी नई गाइडलाइन जारी की जाए तो उसमें कम से कम 24 घंटे का समय दिया जाए। जिससे आम जनता व व्यापारियों को किसी तरह की परेशानी ना हो।

सल्ट उपचुनाव में मतदान होने के पश्चात ही अचानक से क़्यों लगाए गए यह नियम-

सल्ट उपचुनाव में मतदान होने के पश्चात ही अचानक से राज्य सरकार ने यह नियम क्यों लगाए। अगर सरकार ने आज से जनमानस की सुरक्षा के लिए यह नियम लगाने ही थे तो कल सुबह भी इस नियम को जारी किया जा सकता था। राज्य सरकार के अचानक से लिए गए इन निर्णयो से आम जनता व व्यापारियों को कितनी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है शायद सरकार को इसका अंदाजा नहीं है। अन्यथा वह इस प्रकार के निर्णय लेने से पहले एक बार जरूर सोचती।

पहले भी कोविड-19 के संक्रमण के समय अल्मोड़ा के सभी व्यापारियों ने सरकार, जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन को सहयोग किया है और आगे भी करता रहेगा-

कोविड संक्रमण ने 2020 में भारत में दस्तक दी, जिसके बाद अब कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आ गई है। जिस पर जिला मिष्ठान विक्रेता संघ अल्मोड़ा के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह पवार ने कहा कि पहले भी कोविड-19 के संक्रमण के समय अल्मोड़ा के सभी व्यापारियों ने सरकार, जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन को सहयोग किया है और आगे भी करता रहेगा। इस पर सरकार को भी आम जनता व व्यापारियों के हित को ध्यान में रखते हुए ही कोविड 19 से संबंधित कोई नई गाइडलाइन जारी करनी चाहिए।