October 19, 2021

भारत में जल्द 2 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को लगेगी वैक़्सीन, क्लीनिकल ट्रायल के लिए कोवैक्सीन को मिली मंजूरी।

 163 total views,  2 views today

देश भर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर अपने कहर से लोगों को अपनी चपेट में ले रही है। हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। सभी राज्यों से हर रोज कोरोना संक्रमण के नए मरीज सामने आ रहे हैं। जिससे सरकार भी चिंतित है। वही वैज्ञानिकों द्वारा कहा गया है कि भारत में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर आएगी, जो बच्चों को ज्यादा प्रभावित करेगी। वही कोरोना संक्रमण से जंग लड़ने के लिए कोरोना टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी से हुई थी। अब पूरे देश में कोरोना संक्रमण को हराने के लिए टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण शुरू हो गया है। जिसमें 18-44 वर्ष की आयु के लोग बड़ी संख्या में वैक़्सीनेशन करवा रहे हैं। देश भर में टीकाकरण अभियान में तेजी लाई जा रही है। वही सरकार द्वारा भी लोगों से अपील की जा रही है कि अधिक से अधिक संख्या में लोक वैक़्सीनेशन करवाएं। इसी बीच बच्चों के वैक़्सीनेशन से जुड़ी राहत की खबर सामने आई है।

2 से 18 वर्ष के आयु वर्ग में दूसरे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल के लिए कोवैक्सीन को मिली मंजूरी-

भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर भयावह होती जा रही है,वही ऐसे में भारत में तीसरी लहर आने का भी डर बना हुआ है। जिससे बच्चों को अधिक खतरा होने का डर है। ऐसे में बच्चों के लिए भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के दूसरे और तीसरे फेज के क्लीनिकल ट्रायल इस महीने के आखिर तक शुरू हो सकती हैं।  2 से 18 वर्ष के आयु वर्ग में दूसरे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल के लिए कोवैक्सीन को मंजूरी दी गई है। जिसके अगले 10-12 दिनों में ट्रायल शुरू हो जाएंगे।

भारत बायोटेक कोवैक्‍सीन का 525 स्वस्थ वालिंटियर पर करेगा ट्रायल-

ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने बीते कुछ दिन पहले 2-18 आयु वर्ग में कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी है। जिसमें भारत बायोटेक कोवैक्‍सीन का 525 स्वस्थ वालिंटियर पर ट्रायल करेगा।यह ट्रायल दिल्ली और पटना के एम्स और नागपुर के मेडिट्रिना चिकित्सा विज्ञान संस्थान में किया जाएगा।

बच्चों के लिए जल्द उपलब्ध होगी वैक़्सीन-

देश इस वक़्त कोरोना महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहा है। यह लहर पहली लहर से ज्यादा घातक हो रही है, जो सभी उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। वही ऐसे में भारत में तीसरी लहर का भी खतरा बना हुआ है जो बच्चों को ज्यादा नुकसान पंहुचा सकती है। ऐसे में अभी से बच्चों के लिए वैक्सीन के ट्रायल किए जा रहे हैं और उम्मीद है कि जल्द ही बच्चों के लिए वैक़्सीन उपलब्ध हो जाएगी।