October 17, 2021

उत्तराखंड में भी दस्तक दी ब्लैक फंगस के संक्रमण ने, कोरोना को मात दे रहे मरीजों में हुई इस संक्रमण की पुष्टि, जाने क़्या करें उपाय।

 219 total views,  2 views today

देश भर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का प्रकोप तेजी से फैल रहा है। वही उत्तराखंड राज्य में भी कोरोना संक्रमण के मामलों में उछाल आ रहा है। हर रोज बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के मरीज सामने आ रहे है। जिससे लोगों में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का खौफ ज्यादा बना हुआ है। वही देश में कोरोना को मात देकर वापस घर लौट रहे लोगों में अब ब्लैक फंगस का वायरस सामने आ रहा है। इस वायरस ने अब उत्तराखंड में भी अपनी दस्तक दे दी है।

उत्तराखंड में भी अब ब्लैक फंगस इंफेक्शन का हो रहा खतरा-

कोरोना संक्रमण का कहर तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। सभी राज्यों में हालात खराब होते जा रहे हैं। वही अब उत्तराखंड के देहरादून में ब्लैक फंगस ने अपनी दस्तक दे दी है। देहरादून में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले मरीजों में अब फंगल इंफेक्शन ‘म्यूकोरमाइकोसिस’ का वायरस पाया जा रहा है। जिससे लोग अब ब्लैक फंगस का शिकार हो रहे हैं।

आंखों में सबसे ज़्यादा कर रहा असर ब्लैक फंगस का वायरस-

कोरोना वायरस की दूसरी लहर जितनी फैल रही है उतनी घातक होती जा रही है। इस वायरस की चपेट में आए लोग अब ब्लैक फंगस से भी ग्रसित हो रहे हैं। जिसमें गुजरात, दिल्ली और महाराष्ट्र में कई ऐसे केस सामने आए हैं, जिसके बाद अब उत्तराखंड में भी इस संक्रमण के पाए जाने की पुष्टि हुई है। जिसमें कोरोना से ठीक हुए मरीज में म्यूकोरमाइकोसिस के लक्षण पाए गए हैं।

ब्लैक फंगस एक जानलेवा फंगस हो रहा साबित-

उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमण को मात देकर लौटे मरीजों में ब्लैक फंगस के लक्षण पाए गए हैं। जिससे राज्य में इसका खतरा बढ़ गया है। उत्तराखंड से पहले यह दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में भी देखा जा चुका है। देहरादून में भी ब्लैक फंगस तेजी से फैल रहा है और कई लोगों की जान भी ले चुका है। 

जाने कैसे लक्षण दिखाई देते हैं ब्लैक फंगस के मरीजों में-

मरीज को सांस लेने में तकलीफ होती है। मरीज के आंख और कान के पास में दर्द होता है और मरीज की नाक से काला कफ जैसा तरल पदार्थ बाहर निकलता है। वही मरीज को खून की उल्टी होती है और इसी के साथ में सिर दर्द और बुखार रहता है और मरीजों को सीने में दर्द होता है और इसी के साथ में चेहरे में दर्द और सूजन का एहसास होता है। इसी के साथ कई मरीजों की आंखें कमजोर हो जाती हैं और उनको धुंधला दिखाई देता है। जिससे आंखों की रोशनी चली जा रही है। मरीजों को दांतों और जबड़ों में ताकत कम महसूस होने लगती है। जिसके बाद हालत बिगड़ने पर मरीज बेहोश हो जाता है और यहां तक की अधिक घातक होने पर मरीज की जान भी चली जाती है।

ब्लैक फंगस के संक्रमण के रोकथाम के लिए क़्या करें उपाय-

चिकित्सकों का कहना है कि अत्यधिक स्टेरॉयड के कारण भी यह फंगस तेजी से लोगों के बीच में फैल रहा है। जिसकी रोकथाम के लिए सफाई रखें। नियमित रूप से पानी बदलते रहें। इसी के साथ अपने इम्यून सिस्टम को बढ़ाये। वही अधिक से अधिक फलों और हरी सब्जियों को अपनी डाइट में शामिल करे और साथ में नियमित रूप से प्राणायाम और योग भी करें । जिससे इस फंगस से बचा जा सकता है।