December 7, 2021

श्रीलंका तट पर डूबे सिंगापुर के जहाज की खोजबीन में लगा भारत, भारतीय नौसेना का हाइड्रोग्राफिक जहाज पानी के भीतर जलमग्न वस्तुओं का लगा रहा पता

 2,197 total views,  2 views today

कुछ दिन पहले ही श्रीलंका तट के पास सिंगापुर के कंटेनर जहाज में आग लग गई, 13 दिनों तक जलते रहने के बाद सिंगापुर का मालवाहक जहाज एमवी एक्स-प्रेस पर्ल डूब गया था। अब भारतीय नौसेना ने ​अपने हाइड्रोग्राफिक जहाज से श्रीलंका के तट पर उस जगह गहरे पानी के भीतर सर्वेक्षण शुरू किया है। भारत ने श्रीलंका सरकार के अनुरोध पर आईएनएस सर्वेक्षक के साथ यह अभियान शुरू करके खोजबीन के दौरान बड़ी संख्या में जलमग्न वस्तुओं का पता लगाया है।

कब हुआ हादसा

सिंगापुर के कंटेनर जहाज एमवी एक्स-प्रेस पर्ल ने कतर और दुबई से 25 टन नाइट्रिक एसिड और अन्य रसायनों सहित 1,486 कंटेनर लोड किए गए थे। इसके बाद 15 मई को गुजरात के हजीरा बंदरगाह से कोलंबो जा रहा था, तभी कोलंबो बंदरगाह से लगभग 9 समुद्री मील की दूरी पर खराब मौसम के कारण कई कंटेनर ढहकर जहाज पर ही गिर पड़े और उनमें एक विस्फोट के बाद आग लग गई।

जहाज ‘वैभव’ और ‘वज्र’ कोलंबो भेजे

भारतीय तटरक्षक बल ने आग बुझाने में की मदद
श्रीलंकाई नौसेना के मदद मांगने पर भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) ने 26 मई को आग बुझाने के लिए अपने जहाज ‘वैभव’ और ‘वज्र’ कोलंबो भेजे। आग से घिरे जहाज पर दोनों ओर से लगातार 24 घंटे एएफएफएफ घोल और समुद्री पानी का छिड़काव किया गया। इसके बावजूद एमवी एक्स-प्रेस पर्ल सैकड़ों टन रसायनों और प्लास्टिक के साथ 13 दिनों तक जलता रहा।

13 दिनों तक जलते रहने के बाद आग बुझने के 24 घंटे के भीतर सिंगापुर का कंटेनर जहाज 02 जून को श्रीलंका तट पर डूब गया था

जहाज पर चालक दल के सदस्यों को बचाया गया
आखिरकार दोनों देशों के प्रयास से 01 जून को जहाज की आग पूरी तरह से बुझाने में कामयाबी मिली। जहाज के 25 सदस्यीय चालक दल में फिलीपींस, चीनी, भारतीय और रूसी नागरिक शामिल थे, जिन्हें पहले ही सुरक्षित बचा लिया गया था। 13 दिनों तक जलते रहने के बाद आग बुझने के 24 घंटे के भीतर सिंगापुर का कंटेनर जहाज 02 जून को श्रीलंका तट पर डूब गया था। आग बुझाने के दौरान कोलम्बो तट पर बड़ी मात्रा में प्लास्टिक का मलबा भर गया। समुद्र में समा गए जहाज के ईंधन टैंक में मौजूद 278 टन बंकर तेल और 50 टन गैस हिन्द महासागर में लीक होने का खतरा पैदा हो गया है।

हाइड्रोग्राफिक जहाज आईएनएस सर्वेक्षक का काम जारी

वहीं अब श्रीलंका सरकार के अनुरोध पर भारतीय नौसेना का हाइड्रोग्राफिक जहाज आईएनएस सर्वेक्षक कोलम्बो तट पर पहुंचा है। यह जहाज उस जगह पर पानी के भीतर सर्वेक्षण कर रहा है जहां एमवी एक्सप्रेस पर्ल ​​श्रीलंका के तट पर डूब गया था। राष्ट्रीय जलीय संसाधन अनुसंधान एवं विकास एजेंसी (एनएआरए) और हाइड्रोग्राफिक कार्यालय, श्रीलंका नौसेना के समन्वय में हवाई सर्वेक्षण के लिए सर्वेक्षण नौकाओं और हवाई टोही के लिए इंटीग्रल हेलो के साथ सर्वेक्षण को आगे बढ़ाया जा रहा है। भारतीय नौसेना के हाइड्रोग्राफिक सर्वे जहाज आईएनएस सर्वेक्षक ने बड़ी संख्या में जलमग्न वस्तुओं का पता लगाया है।