October 17, 2021

महाकुम्भ का तीसरा शाही स्नान आज, सकुशल सम्पन्न कराने को जुटा प्रशासन।

 85 total views,  2 views today

वैसे तो महाकुम्भ हर 12 वर्षो के बाद लगता है ।जबकि अर्ध कुम्भ 6 वर्षो के बाद लगता है । पुरे भारत वर्ष मे महाकुम्भ का आयोजन चार जगह मे होता है ।जिसमे हरिद्वार, प्रयागराज ,नासिक ,उज्जैन शामिल है।
अर्धकुंभ केवल हरिद्वार और प्रयागराज में लगता है। उज्जैन और नासिक में लगने वाले पूर्ण कुंभ को ‘सिंहस्थ’ कहा जाता है।
वैसे तो महाकुम्भ 12 वर्षो के बाद लगता है ।पर इस बार यह 11 वर्षो मे आयोजित किया गया ।इसका कारण यह है ,क्योंकि ग्रह गोचर के अनुसार बृहस्पति अगले साल कुंभ राशि में प्रवेश नहीं करेंगे, इस कारण इस वर्ष ही कुंभ का आयोजन हो रहा है।

कुंभ मे शाही स्नान का है विशेष महत्व ।

कुम्भ मे शाही स्नान का विशेष महत्व है माना जाता है कि कुम्भ स्नान से व्यक्ति मोक्ष्य प्राप्ति करता है ।कुम्भ मे नहाने से व्यक्ति रोग विकारों से भी दूर रहता है ।

13 अखाड़े के संत होंगे शामिल।

जैसा की महाकुम्भ का तीसरा शाही स्नान आज है ।इसी के साथ 13 अखाड़े के साधु संत इसमें सम्मिलित होंगे। न्यूज सूत्रों के अनुसार शाही स्नान 8:30 से शुरू होकर शाम 5:30 बजे तक चलेगा। इस के दौरान प्रशासन ने 20 गाइडलाइन्स जारी की हैं । जिसका पालन करना अनिवार्य है। शाही स्नान के लिए आने वाले साधु संतों का भी इस दौरान शाही अंदाज दिखेगा। रथों, घोड़ाें और पालकियों पर सवार संत जिस सड़क से भी गुजरेंगे उसकी पहले सफाई की जाएगी। इस दौरान संतों पर हेलिकॉप्टर से फूलों की वर्षा भी की जाएगी। इस दौरान अद्भुत नजारा होगा।

ब्रह्मा कुंड आम लोगो के लिए रहेगा बंद

साधु संतों के शाही स्नान करने तक हरकी पैड़ी पर बना ब्रह्मकुंड आम लोगों के लिए बंद रहेगा। इस दौरान आम श्रद्धालु आस पास के घाटों पर स्नान कर सकते हैं। आम श्रद्धालुओ ने 7 बजे से पहले स्न्नान किया ।वहीँ अब वह शाम के 6 बजे बाद स्नान कर सकेंगे ।डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि आम श्रद्धालुओं के लिए रात के 12 बजे से 7 बजे तक गंगा स्नान के लिए हरकी पैड़ी खोल दी गयी थी ।जबकि दिन का समय संतों के शाही स्नान के लिए रखा गया ।

स्थानीय लोगो को न हो कोई परेशानी ।

डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि महाकुम्भ स्नान के विशेष अवसर पर किसी भी स्थानीय व् बाहरी जगह से आये श्रद्धालुओं का पूरा ध्यान रखा जाएगा । साथ ही कोशिश की जाएगी की किसी भी श्रद्धालुओं और यात्रियों को ज्यादा पैदल न चलने पड़े। उन्होंने कहा कि प्रशासन पूरी कोशिश करेगा की कोरोना गाइडलाइन्स का सभी पालन करे ।और पालन न करने पर पुलिस सख्ती दिखाये ।