October 27, 2021

एक राज्य से दूसरे राज्य के लिए नहीं होगी अब आरटीपीसीआर रिपोर्ट अनिवार्य ।

 317 total views,  6 views today

अब आरटीपीसीआर से जुड़े नियमों में नया बदलाव किया जा रहा है, एक राज्य से दूसरे राज्य जाने के लिए आरटीपीसीआर जांच की आवश्यकता नहीं होगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश की प्रयोगशालाओं पर बढ़ते कार्य भार को देखते हुए यह निर्णय लिया है ।

सप्ताह पहले आरटीपीसीआर की अनिवार्यता को खत्म करने की दी गयी थी सलाह ।

सप्ताह भर पहले आईसीएमआर ने राज्यों को सलाह दी थी कि एक से दूसरे राज्य जाने वालों के लिए आरटीपीसीआर की अनिवार्यता को खत्म कर दिया जाए। 

पूर्ण स्वस्थ्य लोगों को मिलेगी यह छूट

मंगलवार को प्रेस कान्फ्रेंस में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने यहां अपील की है कि अगर किसी को सर्दी, जुकाम या बुखार मामूली रुप से भी है तो भी उन्हें घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। ऐसे में यात्रा करना काफी नुकसानदायक हो सकता है। हालांकि मंत्रालय ने यह छूट केवल स्वस्थ्य लोगो के लिए दी है ।

उत्तराखंड में भी थी आरटीपीसीआर रिपोर्ट अनिवार्य..

उत्तराखंड सहित कुछ राज्यों ने हाल ही में 72 घंटे के अंदर कराई आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट के आधार पर ही दूसरे राज्य से आने वाले को प्रवेश देने का नियम लागू किया था।  आरटीपीसीआर की मांग अधिक होने की वजह से जरूरतमंद मरीजों को भी वेटिंग का इंतजार करना पड़ रहा है। इन कारणों को ध्यान में रखते हुए मंत्रालय द्वारा यह निर्णय लिया गया है ।

आरटीपीसीआर में बदलाव लाने की मुख्य वजह यह है कि आईसीएमआर कम समय में सही मरीज तक पहुंचना चाहता है ।

मंत्रालय का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों और दूरस्थ इलाकों में अधिक मामलें आ रहे हैं । जिसके चलते अभी इन इलाकों में ध्यान देने की आवश्यकता है साथ ही जो लोग एंटीजन जांच में संक्रमित मिले हैं उनकी दोबारा जांच नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा अस्पताल से डिस्चार्ज मरीज के लिए भी दूसरी बार कोविड जांच की जरूरत नहीं है। इन तीन बदलावों के पीछे मुख्य वजह यह है कि आईसीएमआर कम समय में सही मरीज तक पहुंचना चाहता है ताकि संक्रमितों का समय रहते उपचार किया जा सके ।