October 23, 2021

यूनेस्‍को विश्‍व विरासत स्‍थलों की संभावित सूची में छह भारतीय स्थल हुए शामिल

 264 total views,  4 views today

छह भारतीय स्‍थलों को यूनेस्‍को विश्‍व विरासत स्‍थलों की संभावित सूची में शामिल किया गया है। ये स्‍थल हैं-सतपुड़ा टाइगर रिजर्व, ऐतिहासिक शहर वाराणसी का प्रतिष्ठित रिवरफ्रंट, हायर बेनकल का महापाषाण स्थल, मराठा सैन्य वास्तुकला, नर्मदा घाटी-जबलपुर में भेड़ाघाट-लामेताघाट और कांचीपुरम के मंदिर। संस्कृति मंत्रालय ने कुछ दिन पहले इसकी घोषणा की थी। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने यह सूची प्रस्तुत की थी।

भारत के पास है 38 विश्व धरोहर स्थल

स्मारक और स्थलों का अंतर्राष्ट्रीय परिषद यूनेस्को से जुड़ा एक वैश्विक गैर-सरकारी संगठन है। इसका मिशन स्मारकों के निर्माण, संरक्षण, उपयोग और संवर्द्धन, परिसरों और स्थलों के निर्माण को बढ़ावा देना है। यह यूनेस्को के विश्व धरोहर सम्मेलन के कार्यान्वयन के लिए विश्व धरोहर समिति का एक सलाहकार निकाय है। इस प्रकार, यह सांस्कृतिक विश्व विरासत के नामांकन की समीक्षा करता है और संपत्तियों के संरक्षण की स्थिति सुनिश्चित करता है। भारत में 38 विश्व धरोहर स्थल हैं जिनमें 30 सांस्कृतिक, 7 प्राकृतिक और 1 मिश्रित स्थल है।

एक उत्कृष्ट सार्वभौमिक मूल्य

एक विश्व धरोहर एक ऐसा स्थान होता है, जिसे संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन द्वारा उसके सांस्कृतिक महत्व के लिए सूचीबद्ध किया जाता है। विश्व विरासत दिवस हमें अपनी विरासत एवं संस्कृति जिनका पुरातात्विक महत्व होता है, को संरक्षित करने का अवसर देता है। उनके पास एक उत्कृष्ट सार्वभौमिक मूल्य है। वे विश्व धरोहर कन्वेंशन द्वारा नामित होते हैं। कन्वेंशन लोगों के प्रकृति के साथ जुड़ाव की कद्र करता है और दोनों के बीच समता को बनाए रखने की मूल आवश्यकता को समझता है। 1972 विश्व धरोहर सम्मेलन की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि यह एक एकल दस्तावेज में ‘प्रकृति संरक्षण की अवधारणाओं और सांस्कृतिक गुणों के संरक्षण’ को एक साथ समेटे हुए है।

संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा है कि भारत में ऐसे कई स्मारक हैं जो यूनेस्को के विरासत स्थलों की सूची में शामिल किए जाने के मानकों के अनुरूप हैं।