December 1, 2021

गरीबी से संघर्ष की कहानी, आइये जाने 12 आम के तुलसी को कैसे मिले 1 लाख 20 हजार रूपये

 4,214 total views,  2 views today

कोरोना काल में सभी के जीवन पर असर पड़ा है। जिसमें गरीबों की जिंदगी तहस नहस हो गई, तो आम आदमी की जेब पर भी बुरा असर पड़ा है। ऐसे में बच्चों की पढ़ाई पर भी प्रभाव पड़ा है। कोरोना के चलते लंबे समय से स्कूल बंद है, जिसके बाद से आनलाईन पढ़ाई पर ही जोर दिया जा रहा है। वही ऐसे में गरीब बच्चों को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसा ही एक मामला झारखंड से सामने आया है।

आनलाईन पढ़ाई के लिए खरीद सके फोन, इसके लिए बेच  रही है आम-

झारखंड के जमशेदपुर रहने वाली 11 साल की तुलसी कुमारी आनलाईन पढ़ाई के लिए स्मार्टफोन खरीद सके इसके लिए वह सड़क किनारे बेच रही थी आम। कोरोना काल में स्कूल की पढ़ाई के लिए आनलाईन पढ़ाई पर जोर दिया जा रहा है, ऐसे में स्मार्टफोन न होने से बहुत से बच्चे पढ़ाई से वंचित हो रहे हैं।

एक शख़्स ने 12 आम 1 लाख 20 हजार में खरीदे-

तुलसी कुमारी सड़क के किनारे आम बेच रही थी। जब अमेय ने तुलसी की कहानी सुनी तो उसने लड़की से 12 आम खरीदे और आम की कीमत 1 लाख 20 हजार रुपए दी। जिसकी रकम उन्होंने लड़की के पिता के अकाउंट में डाली। इतना ही नहीं तुलसी को एक मोबाइल फोन और दो साल का इंटरनेट भी मुफ्त मिला। अमेया हेटे वैल्यूएबल एडुटेनमेनर प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक हैं।

लाॅकडाउन में आर्थिक दिक़्क़तों का करना पड़ रहा है सामना-

कुछ दिनों से तुलसी की कहानी सोशल मीडिया में काफी वायरल हो रही है। जिसमें तुलसी कुमारी ने बताया था कि उनके परिवार की वित्तीय हालात अच्छी नहीं और ऑनलाइन क्लास लगाने के लिए उसे स्मार्टफोन चाहिए, इसलिए वह यहां सड़क किनारे आम बेचती है ताकि पैसे कमाकर स्मार्टफोन खरीद सके और वो भी ऑनलाइन पढ़ाई कर सके। तुलसी एक सरकारी स्कूल में पांचवीं क्लास में पढ़ती है।