October 17, 2021

ग्रामीण क्षेत्रों में भी तेजी से बढ़ रहा है कोरोना संक्रमण का प्रकोप, जिसके चलते स्वास्थ्य मंत्रालय ने ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों के लिए जारी की गाइडलाइन।

 133 total views,  4 views today

पूरा देश इस समय बहुत बुरे और भयावह स्थिति से गुजर रहा है। हालात खराब होते जा रहे हैं। सभी राज्यों में कोरोना संक्रमण ने अपना तांडव मचाया हुआ है। हर जगह लोगों में इसका खौफ बढ़ने लगा है। हर रोज बड़ी संख्या में सभी राज्यों से रिकॉर्ड तोड़ आंकड़े सामने आ रहे हैं। सभी राज्यों में स्थिति खराब होती जा रही है। उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से बढ़ता जा रहा है। राज्यों में कोरोना संक्रमण के रोकथाम हेतु लाॅकडाउन तक लगाया जा रहा है, इसके बावजूद भी हर रोज बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा चौंका देने वाले आ रहे हैं। बड़ी संख्या में मरीज अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। वही मृत्यु दर में भी इजाफा होने लगा है। वही हर रोज बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीजों के शवों का दाह संस्कार किया जा रहा है। यह मंजर देखने में भयावह सा लग रहा है। जहां एक दिन 5-6 दाह संस्कार होते थे, वहाँ आज 200-400 से भी ज्यादा दाह संस्कार किए जा रहे हैं और यह संख़्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। शहरों में तो कोरोना संक्रमण ने अपना तांडव मचाया हुआ है, लेकिन अब गांवों में भी कोरोना संक्रमण तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। सभी राज्यों में यहीं हालात बने हुए हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी बढ़ने लगा है कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा-

राज्यों के शहरी क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। जिसके साथ-साथ ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में भी कोरोना संक्रमण अब बढ़ने लगा है। हर जगह हालात खराब होते जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी अब कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले चिंताजनक होते जा रहे हैं। राज्यों में ग्रामीण क्षेत्रों से भी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। उत्तराखंड में भी यही हालात बने हुए हैं।

ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन-

शहरों के साथ अब ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों से भी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले सामने आ रहे हैं। जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने शहरी, ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में कोविड-19 की रोकथाम और प्रबंधन के संबंध में गाइडलाइंस जारी की है। गाइडलाइंस में ग्रामीण स्तर पर कोविड के प्रबंधन को लेकर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे की योजना, सर्विलांस, ​​स्क्रीनिंग, होम और कम्युनिटी आधारित आइसोलेशन पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। अब प्राइमरी लेवल के हेल्थ केयर इफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने पर काम किया जाएगा, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को जरूरी हेल्थ से जुड़ी सेवाएं प्रदान की जाएंगी।