October 22, 2021

कोरोना की तीसरी लहर, बरपाएगी बच्चों पर कहर ।

 179 total views,  4 views today

कोरोना ने पूरे विश्व में हाहाकार मचा रखा है । कोरोना की पहली लहर का प्रभाव सबसे अधिक सीनियर सिटिज़न में देखने को मिला, तो वहीँ दूसरी लहर ने युवाओं को झकझोर करके रख दिया है । अब तीसरी लहर की चर्चा हो रही हैं शोधकर्ताओं के अनुसार, कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक मानी जा रही है 

6 से 12 आयु वर्ग के बच्चो पर दिखा सकता कोरोना  अपना असर ?

कोरोना की पहली लहर 50 से अधिक आयु वर्ग को अपना शिकार बना रही थी,  दूसरी लहर 31 से 50 आयु वर्ग लोगो को अपना अधिक निशाना बना रही है । रिपोर्ट्स के अनुसार  तीसरी लहर 6 से 12 तक के आयु वर्ग के, बच्चो के लिए अधिक घातक मानी जा रही है ।  इस समय भारत की कुल आबादी में 18 साल से कम उम्र के बच्चों की हिस्सेदारी 30 प्रतिशत है । बच्चों के लिए अबतक कोई वैक्सीन नहीं आई है, एक अध्ययन के अनुसार अगर 18 साल से ऊपर के लोगों का वैक्सीनेशन हो गया तो छोटे बच्चों को वायरस ज्यादा अटैक करेगा और 6 से 12 साल के बच्चों को ये गम्भीर नुकसान भी पहुंचा सकता है, यह जानलेवा भी हो सकता है । 

तीसरी लहर होगी सबसे खतरनाक ।

जैसा की कोरोना की दूसरी लहर अभी चल रही है, और इससे पूरा देश परेशानी में हैं । किसी को भी समझ नहीं आ रहा है कि वह इन सबसे कैसे उभरे, जब दूसरी लहर इतनी खतरनाक है तो तीसरी लहर क्या कहर बरपाएगी, सोचने मात्र से भी लोग हिचकिचा रहे हैं ।  तीसरी लहर अपना और प्रचंड रूप दिखाएगी की ख़बरों ने वैसे ही सबको दुविधा में डाल दिया है ।

युवाओं का हो जल्द से जल्द वैक्सीनेशन ।

कोरोना से सबसे अधिक मौत युवाओं की हो रही है । इसकी खास वजह यह भी है कि युवाओं का अभी तक वैक्सीनेशन नहीं हुआ जिस कारण उन्हें बिना वैक्सीन के ही कोरोना से लड़ना पड रहा है । देश में अभी तक युवाओं को ही वैक्सीन नहीं मिल पायी है । तो ऐसे में बच्चों के कोविड टीकाकरण के बारे में  सोचना भी गुनाह से कम न् होगा ।

केंद्र सरकार के प्रिसिंपल साइंटिफिक अडवाइजर ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर भी आकर रहेगी इसे कोई नहीं रोक सकता ।

कोरोना  दूसरी लहर के बीच केंद्र सरकार के प्रिसिंपल साइंटिफिक अडवाइजर ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर आएगी और इसे कोई रोक नहीं सकता। लेकिन यह कब और कैसे आएगी अभी इस बारे में कहा नहीं जा सकता। साथ ही उन्होंने कहा कि हमें इन्फेक्शन के बाद शरीर में सक्रिय हुए एंटीबॉडीज और वैक्सिनेशन के बाद पैदा हुई इम्युनिटी के बाद भी खतरा मौजूद रहेगा। कोरोना अपना रूप बदलेगा। हमें इसकी तैयारी करनी होगी और वैक्सीन को भी अपडेट करने की जरूरत होगी।

लोगो को किसी न् किसी तरह प्रभावित करने की तैयारी करेगा वायरस ।

वैक्सीनेशन बढेगा तो वायरस भी कई तरीकों से लोगो को प्रभावित करने का तरीका ढूंढेगा इसके लिए हमें तीसरी लहर से पहले खुद को सावधान करना होगा । डॉक्टर्स का कहना है कि  जब कोरोना की पहली लहर आई थी तो वायरस 10 दिनों में लंग्स को खत्म कर देता था । दूसरी लहर में ये समय अवधि घट कर 5 से 7 दिन हो गई और ऐसा कहा जा रहा है कि तीसरी लहर में तो ये 2 से 3 दिन भी हो सकती है । यानी तीसरी लहर में वायरस दो से तीन में ही मरीज को गम्भीर हालत में पहुंचा देगा और डॉक्टरों को मरीजों का इलाज करने तक का भी समय नहीं देगा ।ऐसे में लोगो द्वारा बरती गयी सावधानियां,आमलोगों में कोरोना के प्रति जागरूकता और कोविड प्रोटोकॉल का पालन ही हमें इस वायरस से बचा सकता है ।