October 26, 2021

संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 मई को देशव्यापी विरोध दिवस की घोषणा की, विपक्षी दलों का भी मिला समर्थन।

 104 total views,  2 views today

अपनी मांगों को लेकर किसानों का आंदोलन जारी है। केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसानों के आंदोलनों को 26 मई को 6 महीने पूरे हो जाएंगे। जिसके चलते किसान संगठन 26 मई को देशव्यापी प्रर्दशन करेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 मई को देशव्यापी प्रदर्शन की घोषणा की-

नए कृषि कानूनों के मसले पर किसान संगठनों और सरकार के बीच अभी तक हल नहीं निकला है। वही संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 मई को देश भर में प्रदर्शन करने की घोषणा की है। इस दिन किसान आंदोलन को शुरू हुए छह महीने पूरे हो रहे हैं।

विपक्षी दलों का भी मिला समर्थन-

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान नेताओं को एक बार फिर विपक्षी दलों का समर्थन मिला है। कांग्रेस समेत 12 बड़ी विपक्षी पार्टियों ने संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का समर्थन किया है। वही विपक्षी दलों ने एक संयुक्त बयान जारी कर किसानों के 26 मई के प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है।

किसान यूनियन कार्यकर्ता 26 मई को मनाएंगे काला दिवस-

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की मांग को लेकर दिल्ली बाडर्र पर चल रहे किसान आंदोलन के छह माह पूरे होने पर भारतीय किसान यूनियन कार्यकर्ता 26 मई को काला दिवस मनाएंगे। इसके तहत कार्यकर्ता अपने घरों और वाहनों पर काला झंडा लगाएंगे। जिसके लिए 26 मई को मनाए जाने वाले काला दिवस कार्यक्रम की रणनीति बनाई जा रही है।

26 नवंबर से शुरू हुआ था किसान आंदोलन-

केंद्र सरकार की ओर से पारित किए गए तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर 26 नवंबर से किसान आंदोलन शुरू हुआ था। जो अभी भी जारी है। जिसके चलते किसान संगठन अपने आंदोलन के 6 माह पूरा होने के मौके पर एक दिन का देशव्यापी विरोध प्रदर्शन आयोजित कर रहे हैं। जो 26 मई को आयोजित किया जा रहा है।