October 23, 2021

उत्तराखंड सरकार कोरोना गाइडलाइन को लेकर हुई सख़्त,शुक्रवार को प्रदेश से 748 मामले आए सामने।

 84 total views,  2 views today

देश में कोरोना की दूसरी लहर तेजी से बढ़ रही है। उत्तराखंड में भी आए दिन कोरोना संक्रमण के मरीज सामने आ रहे हैं। शुक्रवार को भी प्रदेश में 748 मामले आए हैं, जबकि पांच मरीजों की मौत भी हुई है। सबसे ज्यादा मामले देहरादून और हरिद्वार से सामने आ रहे हैं।
देहरादून में सबसे अधिक 335 लोग संक्रमण पाए गए। हरिद्वार में भी 229 मरीज संक्रमित हुए हैं। इसके अलावा ऊधमसिंहनगर में 73, पौड़ी में 30, नैनीताल में 22, टिहरी में 18, अल्मोड़ा में 13, बागेश्वर में 9, चंपावत में 6, पिथौरागढ़ में 8, चमोली में 3 व उत्तरकाशी में 2 लोग संक्रमित मिले हैं। रुद्रप्रयाग में कोई नया मामला नहीं आया है। इधर, विभिन्न जिलों में 327 मरीज ठीक भी हुए हैं। 

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के एक लाख से ऊपर मामले हुए दर्ज-

उत्तराखंड में कोरोना के एक लाख छह हजार 246 मामले आए हैं, जिनमें 97327 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं। वर्तमान में 13 जिलों में कोरोना के 5384 सक्रिय मामले हैं। वहीं राज्य में अब तक कोरोना संक्रमित 1749 मरीजों की मौत हो चुकी है। वही आए दिन कोरोना के नए मरीज सामने आ रहे हैं।

उत्तराखंड सरकार कोरोना गाइडलाइन को लेकर हुई सख्त-

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने जिला प्रशासन को सख्त निर्देश दिए हैं कि जो कोई भी गाइडलाइन का पालन नहीं करता है, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सरकार चिंतित है। जिसके चलते सरकार ने राज्य में सख़्त नियम लागू किए है। जिसमें उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की आरटीपीसीआर जांच, संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए ट्रेसिंग, माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने और सर्विलांस पर और अधिक गंभीरता से काम किया जाए। इसी के साथ लोगों को भी सख़्ती से नियमों का पालन करना अनिवार्य है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने राज्य की स्थिति को गंभीरता से लेते हुए नियमों का पालन अनिवार्य बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के अंदर लोगों से कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराया जाए। उन्होंने कहा कि मास्क व शारीरिक दूरी के नियमों का अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि सभी को इन नियमों का पालन करना अनिवार्य है।