October 17, 2021

‘सेहत’ ओपीडी पोर्टल लॉन्च ,तीनों सेनाओं के रोगियों को घर बैठे मिलेंगी टेली-मेडिसिन सेवाएं

 670 total views,  6 views today

सैन्य कर्मचारियों को  ऑनलाइन  चिकित्सा सलाह लेने के लिए  ‘सर्विसेज ई-हेल्थ असिस्टेंस एंड टेली कंसल्टेशन’  यानि ‘सेहत’ ओपीडी  की शुरुआत की गई है।  रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह ने गुरुवार को ‘सेहत’ ओपीडी को लाॉन्च किया। इस दौरान  उन्होंने कहा कि मौजूदा  दौर  निश्चित ही हम सबके लिए अप्रत्याशित और अभूतपूर्व रहा है। ऐसे कठिन समय  में जीवन के अनेक क्षेत्रों में  नए- नए तरीके  भी  खोजे  गए  हैं।  अब अधिक से अधिक रोगी घर बैठे सलाह ले सकेंगे।  यह पोर्टल  बनाकर  संकट के समय सेवारत कर्मियों के स्वास्थ्य  हित में महत्त्वपूर्ण कदम उठाया गया  है।  

कोविड काल में सेना ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह ने कहा कि डीआरडीओ ने  दिल्ली, लखनऊ,  गांधी नगर, वाराणसी समेत देश में कई जगहों पर  कोविड अस्पताल और  ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण किया है  । बड़े कम समय में तेजी से स्थापित किए गए ये अस्पताल  बखूबी विशेष चिकित्सा सहायता  उपलब्ध करा रहे हैं
इसी तरह डीआरडीओ ने डॉ. रेड्डीज लैब की सहायता से एक औषधि ‘2 डीजी’ विकसित कर के बेहतर परिणाम दिए हैं  । सशस्त्र बलों ने भी कोविड  अस्पतालों में प्रशिक्षित  मेडिकल स्टाफ  की तैनाती की है ।उन्होंने कहा कि संकट के समय जरूरत पड़ने पर हमारी सेनाओं ने  भी  तकनीकी और   लॉजिस्टिक्स  सपोर्ट के क्षेत्रों में भी बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है। देश-विदेश से समय पर  ऑक्सीजन और अन्य   महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरण   लाने में  वायुसेना और  नौसेना  का बहुत बड़ा योगदान रहा है  ।


रक्षा मंत्री ने पोर्टल के लिए कई सुझाव भी दिए

केंद्र सरकार के स्तर पर भी कोरोना की स्थिति पर लगातार नजर रखते हुए उच्चस्तरीय समितियों, मंत्रीसमूहों आदि के माध्यम से दवाइयों, ऑक्सीजन और अन्य उपकरणों की व्यवस्था को बेहतर करने का हमेशा प्रयास किया गया है, ताकि जन-जन की अधिक से अधिक  चिकित्सा जरूरतें पूरी हो सकें    ।  उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि इस पोर्टल से स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स को भी जोड़ा जाए,  जिससे इसकी व्यापकता बढ़ने के साथ-साथ सेनाओं के कर्मचारियों को अधिक लाभ हो ।


वरिष्ठ और सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए होम डिलीवरी दवा पर भी करें विचार

रक्षा मंत्री ने पोर्टल के विकास में लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानिटकर की पूरी टीम  को बधाई और शुभकामनाएं  भी दीं। रक्षा मंत्री ने आगे कहा कि क्या हम  इसी तरह दवाइयों की होम डिलीवरी के बारे में भी सोच सकते हैं  क्योंकि उम्र अधिक होने के कारण या फिर डिस्पेंसरी दूर होने के कारण  वरिष्ठ और सेवानिवृत्त कर्मचारियों को समस्या होती होगी  । ऐसे में पेशेंट के खर्चे पर ही सही , इस सुविधा के बारे में विचार  किया जाना चाहिए ।साथ ही लाभार्थियों से फीडबैक  लेकर उनसे सुझाव मांगें कि हम इसमें और  क्या बेहतर कर सकते हैं। इस तरह आने वाले समय में इन सुझावों के आधार पर हम इस  पोर्टल को और भी बेहतर बना  सकेंगे।  ।