October 26, 2021

उत्तराखंड: मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के निर्देशों पर स्वास्थ्य विभाग ने शुरू की नई पहल ” चिकित्सक आपके द्वार, घर बैठे ले निशुल्क परामर्श।

 85 total views,  2 views today

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का कहर जारी है। हर रोज बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। इसी बीच उत्तराखंड में लोगों के लिए कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए स्वास्थ्य सेवाएं शुरू की है।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के निर्देशों पर उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग द्वारा “चिकित्सक आपके द्वार” सेवा की हुई शुरुआत-

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। जिसमें कोरोना संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के निर्देशों पर उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग द्वारा “चिकित्सक आपके द्वार” सेवा की शुरुआत की गई है। 

राज्य में दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाली जनता को घर बैठे ही दिए जाएंगे विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ्य संबंधी परामर्श-

इन सेवाओं में राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले लोग और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगो को घर बैठे ही विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ्य संबंधी परामर्श दिए जाएंगे। इस सेवा का मुख्य उद्देश्य कोरोना संक्रमण की वजह से होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को चिकित्सीय परामर्श देना है।

घर बैठे दिये जाएंगे निशुल्क परामर्श-

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते लोगों को घर बैठे निशुल्क परामर्श मिलेगा। वही  टेलीमेडिसिन सेवा के साथ ही प्रदेश के प्राइवेट अस्पतालों के 12 विशेषज्ञ डॉक्टर भी परामर्श देंगे । राज्य सरकार की इस विशेष पहल का मकसद दूरस्थ इलाक़ों में रहने वाले लोगों की एक्स्पर्ट डॉक्टर्स के जरिए चिकित्सीय परामर्श देना है।

उत्तराखंड की जनता इन माध्यमों से उठा सकती है यह लाभ-

राज्य सरकार की इस वर्चुअल ओपीडी का लाभ व्हाट्सएप वीडियो कॉल एवं टोल फ्री हेल्पलाइन के जरिए लिया जा सकता है। राज्य सरकार द्वारा इसके लिए 104 टोल फ्री नंबर जारी किया गया है। इसके साथ ही 9412080622 व्हाट्सएप नंबर के जरिए भी जनता सेवा का लाभ ले सकती हैं।इसके साथ ही www.esanjeevaniopd.in/register के माध्यम से भी इस सेवा का लाभ लिया जा सकता है।

वर्चुअल ओपीडी रोजाना सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक रहेगी जारी-

वर्चुअल ओपीडी रोजाना सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक जारी रहेगी। ईसंजीवनी वर्चुअल ओपीडी के जरिए ह्रदय रोग विशेषज्ञ, ईएनटी विशेषज्ञ, नेत्र विशेषज्ञ, प्रसूति रोग विशेषज्ञ, बाल रोग विशेषज्ञ के अलावा फिजीशियन का चिकित्सकीय परामर्श लिया जा सकेगा।