October 17, 2021

पेशावर स्मृति दिवस पर याद किये गए वीर चंद्र सिंह गढ़वाली.. “गढ़वाली जी के सपनों का उत्तराखण्ड बनने के लिए अभी लंबे संघर्षों की ज़रूरत”….

 75 total views,  4 views today

90 वीं वर्षगाँठ पर किया गया  संगोष्ठी का आयोजन ।

अल्मोड़ा, 23अप्रैल 2021, उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने पेशावर कांड की 90 वीं वर्षगांठ पर संगोष्ठी आयोजित कर कहा कि उत्तराखंड व देश ने चन्द्र सिंह गढ़वाली के विचारों को भुला दिया है। इस मौक़े पर उपपा के केंद्रीय अध्यक्ष पी. सी. तिवारी ने कहा कि गढ़वाली जी के सपनों के उत्तराखंड के निर्माण एवं गैरसैंण चंद्रनगर को राज्य की स्थाई राजधानी बनाने के लिए अभी लंबे संघर्ष की ज़रूरत होगी।

वीर चंद्र सिंह गढ़वाली ने अंग्रेजों के आदेश मानने से किया था इंकार ..

उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में आयोजित संगोष्ठी में वक्ताओं ने कहा कि वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली ने सेना में रहते हुए अंग्रेज़ों के उस आदेश को मानने से इंकार कर दिया था जिसमें आज़ादी के संग्रामी पठानों पर उन्हें गोली चलाने का आदेश दिया था।

वक्ताओं द्वारा कहा गया कि सरकार कर रही अपने अधिकारों का दुरूपयोग..

वक्ताओं ने कहा कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम की इस घटना ने अंग्रेज़ी राज्य की नींव हिला दी थी। वक्ताओं ने कहा कि लेकिन आज़ादी के बाद आज भी सरकारों के चरित्र में कोई बदलाव नहीं हुआ और आज हमारी केंद्र सरकार हो या राज्य सरकार, अपने अधिकारों, पुलिस प्रशासन का दुरुपयोग कर रही है जिस पर रोक लगनी चाहिए। 

जनता को समझनी होगी ये बात ..

वक्ताओं ने कहा कि गढ़वाली जी अंतिम सांस तक बेहतर उत्तराखंड की लड़ाई लड़ते रहे जिस तात्कालिक सरकार, राजनीतिक दलों ने उनकी उपेक्षा की आज वही उनके विचारों की हत्या कर उनकी मूर्तियां व नाम का अपने हितों के लिए इस्तेमाल कर रही हैं जनता को इस बात को समझना चाहिए।

इतने लोग थे मौजूद…

संगोष्ठी की अध्यक्षता श्रीमती आनंदी वर्मा ने व संचालन एड. नारायण राम ने किया। कार्यक्रम में राजू गिरी, गोपाल राम, श्रीमती हीरा देवी, किरन आर्या, प्रकाश राम समेत अनेक लोग मौजूद रहे।