October 22, 2021

मानसून आते ही पहाड़ों की हवा में आयी ताज़गी, मसूरी से तीन गुना ज्यादा शुद्ध हवा अल्मोड़ा में

 1,594 total views,  2 views today

मानसूनी बारिश ने पहाड़ की हवा से गंदगी को दूर कर पर्यावरण को शुद्ध कर दिया । बीते कुछ समय से प्रदूषण का स्तर निरन्तर बढ़ता जा रहा था । लेकिन अब यह धीरे- धीरे गिर रहा है । और पहाड़ों में दोबारा से हवाएं शुद्ध और लाभदायक हो गई हैं । माह अप्रैल में जंगलों की आग की वजह से पर्यावरण दूषित हो गया था  । जहरीली हवाओं ने पर्यावरण को दूषित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी । जिस वजह से प्रदूषण स्तर बढ़ता चला गया । मानसून आने की वजह से पहाडों की जीवनदायिनी हवा फिर से तरोताज़ा हो गई हैं ।

कुमाऊँ की सभी जगह की स्थिति ठीक

जानकारी के अनुसार प्रदूषण की ऑनलाइन मॉनीटरिंग करने वाली एक्यूवेदर वेबसाइट के मुताबिक मसूरी में अल्मोड़ा के मुकाबले प्रदूषण का स्तर तीन गुना ज्यादा है।  और कुमाऊं के सभी मुख्य शहरों की स्थिति ठीक है। अधिकांश जगह प्रदूषण की दर 100 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर से कम है। जिसके मानकों के हिसाब से सही माना जाता है।

जिलों में प्रदुषण के स्तर का हाल

वेबसाइट के मुताबिक बुधवार को नैनीताल में प्रदूषण की मात्रा 79, अल्मोड़ा में 38, बागेश्वर में 40, पिथौरागढ़ 66, चम्पावत में 65 और मसूरी में 105 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर थी। और हल्द्वानी की स्थिति भी बेहतर थी। बारिश का दौर शुरू होते ही पर्यावरण को राहत मिली है । अब आगे को जितनी अधिक वर्षा होगी पर्यावरण का स्तर और अधिक सुधरता जाएगा ।