October 26, 2021

आज मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस, जानें कैसे हुई थी इसकी शुरुआत

 416 total views,  4 views today

आज हमारा देश प्रगति की ओर तेजी से बढ़ रहा है, जिसमें युवावर्ग सबसे ज्यादा शामिल हैं। वही दूसरी ओर नशे जैसी बुरी आदतों का सेवन करके युवा अपना भविष्य खराब कर रहे हैं। ऐसे ही लोगों को तंबाकू का सेवन करने से रोकने और तंबाकू की वजह से स्वास्थ को होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक करने के उद्देश्य से, विश्व भर में हर वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस यानी वर्ल्ड नो टोबैको डे मनाया जाता है। हर वर्ष इस दिन के लिए एक विशेष थीम आयोजित की जाती है। इस वर्ष यानी 2021 में इसकी थीम ‘छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध’  रखी गयी है। तो आईये आज संकल्प ले कि नशे जैसी चीजों का सेवन कभी नहीं करेंगे। 

जाने कैसे हुई थी शुरुआत-

तंबाकू के सेवन से होने वाली मौतों में वृद्धि को देखते हुए नो टोबैको डे मनाने की शुरुआत विश्व स्वास्थ संगठन यानी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) के द्वारा वर्ष 1987 में की गयी थी। हालांकि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की वर्षगांठ के अवसर पर पहली बार इस दिन को 7 अप्रैल 1988 को मनाया गया था, लेकिन इसके बाद 31 मई 1988 को WHO42.19 प्रस्ताव पास होने के बाद से इस दिन को हर वर्ष 31 मई को मनाया जाने लगा।

हर वर्ष वर्ल्ड नो टोबैको डे पर होते है कार्यक्रम आयोजित-

विश्व स्वास्थ संगठन के द्वारा हर वर्ष वर्ल्ड नो टोबैको डे के लिए एक विशेष थीम तय की जाती है। इस वर्ष यानी 2021 के लिए इस दिन की थीम ‘छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध’  रखी गयी है। हर वर्ष वर्ल्ड नो टोबैको डे पर जो कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं वो इसी विशेष थीम पर आधारित होते हैं। कोरोना के चलते इस वर्ष ज्यादातर कार्यक्रम ऑनलाइन/डिजिटल माध्यम से आयोजित होंगे। इसी क्रम में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा ‘तम्बाकू छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध’ विषय पर पोस्टर एवं स्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन बीती 20 मई से किया गया है जो 10 जून, 2021 तक ऑनलाइन/डिजिटल माध्यम से आयोजित होगी।

तंबाकू के सेवन और नशे के सेवन से दूर रहने के लिए किया जाता है जागरूक-

इस दिन को मनाये जाने का उद्देश्य लोगों को ये समझाना है कि तंबाकू खाना और धूम्रापान करना स्वास्थ्य के लिए वाकई बहुत हानिकारक है। इसके सेवन से उनके स्वास्थ्य को गंभीर खतरा है और कई तरह की जानलेवा बीमारियां शरीर में घर करती हैं। इसलिए इसके सेवन से हमेशा बचना चाहिए। जो लोग तंबाकू का सेवन कच्ची तंबाकू, बीड़ी-सिगरेट, पान मसाला या हुक्का किसी भी तरह से कर रहे हैं उनको इसके नुकसान के बारे में समझाते हुए तंबाकू छोड़ने के लिए तो उनको प्रेरित किया ही जाता है। उन युवाओं को भी इस बारे में समझाया जाता है जो इसकी शुरुआत कर सकते हैं।

तंबाकू सेहत के लिए होता है खतरनाक-

आज हमारा पूरा देश कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के कहर से जूझ रहा है, जिसमें यह बड़ी संख्या में लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। वही तंबाकू का सेवन करने वाले लोगों में खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। इसके सेवन से फेफड़े का कैंसर, लिवर कैंसर, मुंह का कैंसर, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, हृदय रोग, कोलन कैंसर, गर्भाशय का कैंसर जैसी कई और गंभीर बीमारियां होती है।