February 2, 2023

Khabribox

Aawaj Aap Ki

अल्मोड़ा: दन्या में शिक्षक ने रेजर से 14 बच्चों के बाल कतरे, अभिभावकों में आक्रोश.. शख्त कार्रवाई की मांग

 1,285 total views,  2 views today

अल्मोड़ा के धौलादेवी ब्लॉक के दन्या स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में एक शिक्षक पर रेजर लगाकर करीब 14 बच्चों के सिर के बाल बेतरतीब तरीके से कतरने का आरोप लगा है। इस घटना से अभिभावकों में आक्रोश छाया हुआ है। उन्होंने आरोपी शिक्षक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग उठाई है। इधर, पुलिस भी मामले की जांच में जुट गई है। ये मामला सोशल मीडिया में खूब छाया हुआ है।

शर्मिंदगी के मारे बच्चे दुबके रहे क्लास में, पुलिस मामले की जांच में जुटी

बताया जा रहा है कि दन्या के सरस्वती शिशु मंदिर में पढ़ने वाले कुछ बच्चों के बाल स्कूल के मानकों के अनुसार नहीं थे। बच्चों को प्रबंधन ने स्कूल के मानकों के अनुसार बाल रखने को कहा गया था। इधर, गुरुवार को स्कूल के एक शिक्षक ने रेजर से बच्चों के बाल कतर दिए। सिर में बालों की हालत के चलते बच्चे स्कूल से बाहर निकलने में शर्मिंदगी महसूस करने लगे। बताया जा रहा है कि शिक्षक ने रेजर से स्कूल में करीब 14 बच्चों के सिर को बीच से गंजा कर दिया था।

बच्चों को सजा देने के इस तरीके की घटना से अभिभावकों में आक्रोश

घर पहुंचने पर बच्चों की हालत देख अभिभावक आक्रोशित हो उठे। बच्चों ने उनके साथ स्कूल में घटी घटना की जानकारी परिजनों को दी। इस पर अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन को फोन किए। देखते ही देखते ये मामला सोशल मीडिया में गहरा गया था। लोग आरोपी को बर्खास्त करने की मांग उठाने लगे। दन्या थाने के एसओ सुशील कुमार ने बताया कि मामला अभी अभी संज्ञान में आया है। मामले की जांच की जा रही है।

अभिभावकों ने शिक्षक के खिलाफ की कार्रवाई की मांग

मोहन पंत, प्रभारी प्रधानाचार्य, सरस्वती शिशु मंदिर दन्या द्वारा बताया गया कि बच्चों को स्कूल के हिसाब से बाल कटवाने के लिए जरूर कहा गया था। अभिभावकों से जानकारी मिली है कि उनके बच्चों के बाल एक शिक्षक ने रेजर से कतर दिए हैं। इसी को देखते हुए अभिभावकों को स्कूल बुलाया जा रहा है। उसके बाद संबंधित शिक्षक के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं उस शिक्षक का कहना है कि किस प्रकार से बच्चों को अपने बाल कटवाने हैं केवल इसी का नमूना बताने के लिए सिर के एक हिस्से से बाल काटे हैं। ताकि वह सैलून में जाकर उसी प्रकार बाल कटवा सकें।