May 28, 2022

बागेश्वर: दुष्कर्म के अभियुक्त को 20 साल की कठोर कारावास की सजा, व 1 लाख के अर्थदंड से किया दंडित

 3,489 total views,  6 views today

विशेष न्यायाधीश पॉस्को ने मंगलवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म के अभियुक्त को दोषसिद्ध पाते हुए बीस साल की कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ एक लाख रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। अन्य दो धाराओं में एक-एक साल की सजा सुनाई है। सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी।

दुष्कर्म मामले में हुई थी गिरफ्तारी-

विशेष लोक अभियोजक खड़क की कार्की के ने बताया कि गत वर्ष 12 जुलाई को कपकोट तहसील के एक गांव नाबालिग करीब पांच बजे अपनी मां के साथ मवेशियों को ढूंढने के लिए जंगल जा रही थी। मवेशियों को ढूंढने के लिए दोनों अलग-अलग रास्ते से गए। नाबालिग जब बकरियां लेकर लौट रही थी। उसी वक्त उसे खीम सिंह मिला। उसने नाबलिग का हाथ पकड़कर मुंह बंद कर दिया और जंगल की ओर ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को अंजाम दे दिया और मौके से फरार हो गया। दस साल की नाबालिग लहुलुहान और बदहवास होकर अपने चाचा के घर पहुंची और आपबीती सुनाई। उसी वक्त चाचा और चाची उसे कपकेाट अस्पताल ले गए। यहां से डॉक्टरों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जहां वह भर्ती रही। कार्की ने बताया कि पीड़िता का पिता अत्यधिक शराबी होने के कारण चाचा ने ही 13 जुलाई को आरोपी खीम सिंह पुत्र सोबन सिंह निवासी सूपी तलाई के विरूद्ध 378 (क) (ख) के तहत मुकदमा दर्ज किया। आरोपी को पुलिस ने उसी दिन गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी को पाया दोषसिद्ध-

मामले में तत्कालीन थानाध्यक्ष कैलाश बिष्ट के नेतृत्व में एसआई मनीषा पांडेय ने विवेचना की। बाद में आरोपी के खिलाफ 323, 506 धाराएं बढ़ाई गई। इसके बाद पुलिस ने अरोप पत्र विशेष न्यायालय में पेश किया। अभियोजन की आरे से उन्होंने 11 गवाह परीक्षित कराए। आरोपी शादीशुदा दो बच्चों का पिता है। दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद मंगलवार को विशेष न्यायधीश पॉस्को शहशाह मोहम्मद दिलवर दानिश ने आरोपी को दोषसिद्ध पाया।अभियुक्त को 376 (क) (ख) में 20 वर्ष का कठोर कारावास की सजा सुनाई तथा एक लाख का जुर्माना लगाया। 323, 506 में एक-एक साल की सजा सुनाई है। सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी।