धौलछीना के विमल कोट मंदिर में पूजा अर्चना के लिए उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

आज 1 जनवरी 2022 है। आज नये साल के अवसर पर 2022 में सुख समृद्धि वैभव और स्वस्थ जीवन की कामना करते हुए श्रद्धालुओं ने धौलछीना स्थित विमल कोट शक्तिपीठ मंदिर में पूजा अर्चना की।

मंदिर समिति की ओर से भंडारे का हुआ आयोजन-

आज बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आए। आस्था और उमंग के साथ लोगों ने नए वर्ष की शुरुआत की। प्रसिद्ध शक्तिपीठ विमल कोट देवी मंदिर में आज सुबह से लेकर देर शाम तक श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।  इस दौरान मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना तथा तथा प्रसाद वितरण के साथ भंडारे, हवन का आयोजन किया गया। मंदिर समिति की ओर से भंडारे का भी आयोजन किया गया। नये वर्ष के पहले दिन विमल कोट मंदिर में हर वर्ष विशाल धार्मिक मेला तथा भंडारे का आयोजन होता है। इस साल भी काफी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आए।

अटूट आस्था का यह केंद्र सैकड़ों वर्ष पुराना है-

यह ऐतिहासिक मंदिर धौलछीना के निकट विमलकोट में स्थापित है। अटूट आस्था का यह केंद्र सैकड़ों वर्ष पुराना है। ब्लॉक मुख्यालय धौलछीना से लगभग 3 किलोमीटर दूरी पर विमलकोट पहाड़ी में स्थित  शक्तिपीठ मां भगवती देवी को न्याय की देवी के रूप में जाना जाता है। अटूट आस्था का यह केंद्र सैकड़ों वर्ष पुराना है। लगभग 8 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर के प्रांगण से हिमालय की लंबी श्रंखला दिखाई देती है। जो श्रद्धालुओं के साथ-साथ पर्यटकों को भी बरबस अपनी ओर आकर्षित करती है।