May 24, 2022

उत्तरप्रदेश के खीरी जिले में कल हिंसा की दो अलग अलग घटनाओं में आठ लोग मारे गये, धारा 144 लागू, विभिन्न राजनीतिक दलों ने दी प्रतिक्रिया, जानें

 2,513 total views,  4 views today

लखीमपुर खीरी जिले में कल हिंसा की दो अलग अलग घटनाओं में आठ लोग मारे गये। गौरतलब है कि कार से कुचलकर किसानों के मारे जाने के बाद भड़की हिंसा में कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई है, इलाके में तनाव है और विपक्ष के कई बड़े नेता आंदोलन स्थल तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं।

धारा 144 लागू

मुरादाबाद मुरादाबाद के ज़िलाधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि राजमार्ग कुछ प्रतिबंध के साथ चल रहा है। लखीमपुर खीरी में धारा 144 लागू है और बाहर के लोगों का प्रवेश निषेध होने के कारण यहां सतर्कता बरती जा रही है।

कई जगह हो रहा विरोध प्रदर्शन

पंजाब में लखीमपुर खीरी की घटना के विरोध में किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी ने अमृतसर में भाजपा नेता तरुण चुघ के घर के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

लखीमपुर की घटना पर कपिल सिब्बल, कांग्रेस ने कहा सत्ता पक्ष के घमंड की बात है कि हम कुछ भी कर लें, कोई पूछने वाला नहीं है। जिस बेरहमी से मंत्री के काफिले की गाड़ी किसानों के ऊपर चढ़ा दी, इससे ज़्यादा शर्मनाक बात क्या हो सकती है। इनकी सोच है कि अगर तुम विरोध करोगे तो हम गाड़ी चढ़ा देंगे।

लखीमपुर खीरी की घटना पर तेजस्वी यादव, आरजेडी ने कहा लोग चाहते हैं कि पीड़ितों को न्याय मिले लेकिन भाजपा के मंत्री का बेटा होने की वजह से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उत्तर प्रदेश में पूरी तरह से गुंडा राज कायम हो चुका है।

कई लोगों को हिरासत में लिया गया

लखीमपुर खीरी जा रहे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव को पुलिस ने लखनऊ में हिरासत में लिया गया। वही लखीमपुर खीरी जाने के लिए लखनऊ में अपने घर के बाहर धरने पर बैठे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश कानून व्यवस्था की निंदा की

लखीमपुर में जिस प्रकार किसानों को रौंदा गया, ये उनकी मानसिकता है कि वो बता रहे हैं कि हमारा विरोध करोगे तो हम इसी प्रकार से कुचल देंगे। ये मानसिकता पूरे देश के लिए खतरनाक है, इससे पूरा देश आंदोलित हुआ है।

जो कानून-व्यवस्था की बात को लेकर सत्ता में आए थे, कानून-व्यवस्था की किस तरह से धज्जियां उड़ रही है पूरा देश देख रहा है। योगी आदित्यनाथ के कंट्रोल में अब कुछ नहीं रहा। अगर मंत्री के बेटे नहीं थे तो विपक्ष को जाने क्यों नहीं दिया जा रहा है।

प्रियंका गांधी कल रात ही लखीमपुर के लिए निकल गईं और उन्हें सीतापुर में हिरासत में लिया गया। मेरा भी कार्यक्रम बना(वहां जाने का), लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार प्लेन नहीं उतरने दे रही है। धारा 144 तो लखीमपुर में लगी है, लखनऊ में उतरने क्यों नहीं दिया जा रहा?।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा घरों में रहे और अफवाहों पर ध्‍यान न दें

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने लखीमपुर खीरी जिले के लोगों से अपील की है कि वे शांति बनाये रखे, अपने घरों में रहे और अफवाहों पर ध्‍यान न दें। उन्‍होंने कल की घटना को दुर्भाग्‍यपूर्ण बताया और इस पर दुख व्‍यक्‍त किया। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इस घटना के लिए जिम्‍मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।
इस बीच, केन्‍द्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा ने हिंसा के लिए समाज विरोधी तत्‍वो को जिम्‍मेदार बताया है। उन्‍होने कहा कि यह एक षड्यंत्र था।
उत्तर प्रदेश सरकार ने पंजाब के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर राज्य से किसी को भी लखीमपुर खीरी नहीं जाने देने का अनुरोध किया।