May 28, 2022

अल्मोड़ा: रिसोर्सेेज एवं सर्विसेज” विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार का हुआ आयोजन

 1,951 total views,  6 views today

ए0 डी0 पंत केन्द्रीय पुस्तकालय, सोबन सिंह जीना विश्ववविद्यालयए परिसर अल्मोड़ा, उत्तराखंड एवं डेलनेट (डेवेलेपिंग लाइब्रेरी नेटवर्क), नई दिल्ली द्वारा डेलनेटः रिसोर्सेेज एवं सर्विसेज” विषय पर राष्ट्रीय वेविनार का आयोजन किया गया ।

वेबिनार का शुभारंभ किया

इस अवसर पर मुख्य अतिथि रूप में प्रोफेसर एन0 एस0 भण्डारी (माननीय कुलपति सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा),  मुख्य वक्ता डॉ0 संगीता कौल (डायरेक्टर, डेलनेट, नई दिल्ली) वेबिनार अध्यक्ष रूप में प्रो0 प्रवीण सिंह बिष्ट (अधिष्ठाता प्रशासन) संयोजक प्रोफेसर भीमा मनराल (प्रोफेसर इंचार्ज लाइब्रेरी, सोबन सिंह जीना परिसर, अल्मोड़ा तथा सह संयोजक रूपा में डॉ0 बिभाष कुमार मिश्रा (उप.पुस्तकालयाध्यक्ष) सोबन सिंह जीना परिसर, अल्मोड़ा ने संयुक्त रूप से वेबिनार का शुभारंभ किया।

पुस्तकालयों में डेलनेट बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है

वेबिनार की संयोजक प्रोफेसर भीमा मनराल (प्रोफेसर इंचार्ज लाइब्रेरी, सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा) ने अतिथियों का स्वागत करते हुए डेलनेट के संबंध में कहा कि आधुनिक पुस्तकालयों में डेलनेट बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है।
इस अवसर पर वेबिनार के उप-संयोजक डॉ0 बिभाष कुमार मिश्रा (उप-पुस्तकालयाध्यक्ष) ने डेलनेट के संबंध में विस्तार से रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि आज के दौर में पुस्तकालय को नेटवर्क से जोड़ने और संसाधनों के आदान.प्रदान के लिए डेलनेट की मुख्य भूमिका है। कोविड-19 के दौर में हम घर से डेलनेट के माध्यम से कई चीजों को सीख सकते हैं और पुस्तकालय में बैठकर हम दूसरे पुस्तकालयों से पुस्तकों, शोधपत्रों आदि को प्राप्त कर सकते हैं। शोधार्थी के लिए यह शोध में बहुत कीमती साबित हुआ है। मुख्य वक्ता के तौर पर डॉ0 संगीता कौल (डायरेक्टर, डेलनेट, नई दिल्ली) ने डेलनेट  के प्रयोग करने की प्रक्रिया को विस्तार से समझाया। उन्होंने कहा कि आज के समय में डेलनेट में 3 करोड़ से अधिक पुस्तकों का संग्रह है। जिसका हम अध्ययन कर सकते हैं। आज के समय में देश-विदेशके 7285 पुस्तकालय, डेलनेट से जुड़े हैं।  

नवीन जानकारियां अपने अध्ययन क्षेत्र की प्राप्त होंगी

अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में प्रो0 प्रवीण सिंह बिष्ट (अधिष्ठाता प्रशासन) ने कहा कि सभी अध्येताओं को डेलनेट के माध्यम से नवीन जानकारियां अपने अध्ययन क्षेत्र की प्राप्त होंगी। जिससे कि वह शोधकार्य को और अधिक बेहतर बना सकते हैं। डेलनेट संसाधन के रूप में हमारे सामने है। रिसोर्स के आदान.प्रदान के लिए यह महत्वपूर्ण है।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप मे सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 नरेंद्र सिंह भंडारी ने सभी प्रतिभिागियों को अपनी शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय के पुस्तकालय को आधुनिक समय के अनुरूप बेहतर पुस्तकालय के रूप में विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि डेलनेट आज के समय में ज्ञान एवं संसाधनों के आदान.प्रदान में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह पुस्तकालय भी डेलनेट से जुड़ा हैं।

यह लोग रहे मौजूद

इस अवसर पर वेबिनार का संचालन वेबिनार की संयोजक प्रो0 भीमा मनराल (प्रो0 इंचार्ज, लाइब्रेरी) ने तथा सह संयोजक डॉ0 विभाष मिश्रा (उप पुस्तकालयाध्यक्ष) ने सभी का आभार जताया।
 इस अवसर पर बिहार,प. बंगाल, नई दिल्ली, जयपुर, राजस्थान, हरियाणा, केरल, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, गुजरात, उड़ीसा, चंड़ीगढ,छत्तीसगढ़,कर्नाटक, उधमसिंहनगर, जम्मू-कश्मीर, पंजाब,मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश आदि कई क्षेत्रों के लगभग 200 प्रतिभागियों ने इस राष्ट्रीय वेबिनार में प्रतिभाग किया।