June 30, 2022

आदि गुरू शंकराचार्य की पवित्र गद्दी…. योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर से श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंची…. उत्तराखंड टॉप टेन न्यूज़ (22 नवंबर)

Ten

 2,139 total views,  2 views today

◆ अशोक चक्र विजेता शहीद बहादुर सिंह बोहरा के परिजनों और ग्रामीणों ने शहीद सम्मान यात्रा का विरोध करते हुए सैन्य धाम निर्माण के लिए आंगन की मिट्टी देने से मना कर दिया। कहा
शहादत के समय उनसे बड़े-बड़े वादे किए थे, जो कि पूरे नहीं किए गए।

◆ बद्रीनाथ मंदिर के कपाट 20 नवंबर को बंद होने के बाद आज आदि गुरू शंकराचार्य की पवित्र गद्दी…. योग ध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर से श्री नृसिंह मंदिर जोशीमठ पहुंची। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने आदि गुरू शंकराचार्य की डोली के दर्शन किये।

◆ चमोजी जिले के देवाल विकास खंड के नजदीकी गांव देवसारी में पहली बार बस पहुंची।

◆ देहरादून में अब खुले में कूड़ा जलाने वालों पर 5 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। जिलाधिकारी आर. राजेश कुमार ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिये हैं। राजधानी देहरादून में दीपावली के बाद से ही प्रदूषण खतरे के निशान पर है जिसको देखते हुए यह फैसला लिया गया है।

◆ शिक्षा विभाग में प्रमोशन और चयन वेतनमान के घपले का खुलासा हुआ ।

◆ विधानसभा सत्र के पहले दिन सात दिसंबर को कांग्रेस गैरसैण में सरकार की नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करेगी।

◆ बीते दिनों पहाड़ में तापमान घटने के बजाय बढ़ा है। मौसम विज्ञान विभाग की ओर से जारी तापमान के आंकड़ों के मुताबिक नैनीताल के मुक्तेश्वर, पंतनगर और नई टिहरी में तापमान बढ़ा है।

◆ केलाखेड़ा पुलिस ने दो किलो चरस के साथ एक पीआरडी जवान को गिरफ्तार किया ।

◆ यूपी से बाजार भाव से परिसंपत्तियों के बंटवारे के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रही रोडवेज कर्मचारी यूनियन ने सुप्रीम कोर्ट से केस वापस लेने से इंकार किया।

◆ कांग्रेस के टिकट के लिए नैनीताल विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस से तीन लोगों दावेदारी पेश की है। इसमें हाल में भाजपा छोड़कर कांग्रेस में लौटे पूर्व विधायक संजीव आर्य, पूर्व विधायक सरिता आर्य और हेम आर्य शामिल हैं।

◆ द्वितीय केदार भगवान मद्महेश्वर के कपाट आज सुबह परंपरानुसार वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ शीतकाल के लिए बंद हो गये हैं। कपाट बन्द होने से पहले सुबह 5 बजे भगवान की विशेष पूजा-अर्चना की गयी। कपाट बंद होने के बाद भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली अपने धाम से रवाना हो गयी।