December 8, 2021

उत्तराखंड टॉप टेन न्यूज़ (6 सितंबर,भाद्रपद, कृष्ण चतुर्दशी, वि.सं. 2078)

 3,074 total views,  2 views today

◆ क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा हरिद्वार में जल प्रदूषण जांच लैब स्थापित की गई। जिससे गंगाजल और पीने के पानी की गुणवत्ता की जांच हो रही है। हरिद्वार में लैब स्थापित होने के बाद समय और श्रम दोनों की बचत हो रही है। सैंपल के परिणाम समय से आने से कार्यवाही में भी तेजी आयेगी।

◆ आज अल्मोड़ा पहुंचकर मुख्यमंत्री ने रैमजे इण्टर कालेज में जन आशीर्वाद रैली में सम्मिलित होकर विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की घोषणा की। पाण्डेखोला में विकास भवन तथा निर्माणाधीन कलेक्ट्रेट भवन को जाने वाली सड़क का चौड़ीकरण किया जाएगा।

◆ आजादी के अमृत महोत्सव के तहत चंपावत के खेतीखान में व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया। स्वतंत्रता सेनानी पार्क में आयोजित कार्यक्रम में हर्षदेव ओली के योगदान पर स्थानीय लोगों ने प्रकाश डाला। आजादी के आंदोलन में उन महान स्वतंत्रता सेनानियों को याद किया जा रहा।

◆ कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए नैनीताल पुलिस अलर्ट हो गई है। एसएसपी ने सभी पुलिस अधिकारियों को मास्क के लिहाज से सघन चेकिंग अभियान चलाने के निर्देश जारी किये हैं। सिटी मजिस्ट्रेट औऱ एसपी सिटी लगातार बाजार में चैकिंग अभियान चलाकर कार्यवाही भी कर रहे हैं।

◆ हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में 20 छात्रों के कोविड पॉजिटिव आने के बाद प्रशासन ने सख्ती बरतनी शुरु कर दी है। एसएसपी ने सभी थाना इंचार्ज को भी मास्क का प्रयोग और सोशल डिस्टेंसिग का पालन करवाने के निर्देश दिये है।

◆ सीमांत के लोक गायकों ने इंडियन आइडियल के विजेता पवनदीप राजन को उत्तराखंड रत्न दिए जाने की मांग की है।

◆ सरकार ने अब कोविड कर्फ्यू को बढ़ाकर 14 सितंबर तक कर दिया है। कोविड कर्फ्यू की नई गाइडलाइन के अनुसार, उत्तराखंड आने के लिए पर्यटकों को आरटीपीसीआर कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट के साथ ही स्मार्ट सिटी वेबवाइट में पंजीकरण सहित होटल बुकिंग से जुड़े कागजात दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है।

◆ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा भाजपा को जन आशीर्वाद यात्रा नहीं बल्कि पश्चाताप यात्रा निकालनी चाहिये।

◆ अल्मोड़ा में अब हर जिले के हर ब्लॉक में केसर का उत्पादन किया जाएगा।

◆ आईटीबीपी के हिमवीरों ने पहली बार हिमालय की माउंट बलबला पीक को फतह कर वहां तिरंगा फहराया। पहली बार कोई भारतीय दल इस चोटी पर पहुंच पाया है।