November 29, 2021

अल्मोड़ा: इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग, सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय परिसर द्वारा कुली बेगार आंदोलन का शताब्दी वर्ष वेबिनार का हुआ आयोजन

 3,389 total views,  2 views today

स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर भारत की आजादी का अमृत महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर कुली बेगार आंदोलन का शताब्दी वर्ष विषय पर इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग सोबन सिंह जीना परिसर द्वारा आयोजित दो दिवसीय ऑनलाइन बेबिनार का आयोजन किया गया। 

कुली बेगार आंदोलन की पृष्ठभूमि के संबंध में विस्तार से बात रखी

द्वि़तीय दिवस के प्रथम सत्र में अध्यक्षता डॉ0 वसुधा पंत ने की। इस अवसर पर मुख्य अतिथि रूप में पद्मश्री प्रो0 पुष्पेश पंत और वक्ता रूप में प्रो0 दया पंत, डॉ0 चंद्रसिंह चौहान, प्रो0 संजय टम्टा, आजादी का अमृत महोत्सव के संयोजक प्रो0 अनिल जोशी, आयोजक सचिव एवं इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो0 वी0 डी0 एस0 नेगी, सह-संयोजक डॉ0 गोकुल देउपा ने इस सत्र का संयुक्त रूप से उद्घाटन किया। इस सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में पद्मश्री प्रो0 पुष्पेश पंत ने इतिहास एवं क्षेत्रीय इतिहास के विभिन्न पक्षों और कुली बेगार आंदोलन की पृष्ठभूमि के संबंध में विस्तार से बात रखी। वक्ता डॉ0 हीरा भाकुनी ने कुमाऊँ परिषद, बद्रीदत्त पांडे, अल्मोड़ा अखबार, होम रूल लीग के संबंध में बात रखी। उन्होंने कहा कि 1916 को एक ऐतिहासिक वर्ष के रूप में महत्वपूर्ण बताया गया है। इस वर्ष भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नरमपंथी एवं गरमपंथी दलों का एकीकरण हुआ तो दूसरी ओर कांगेस-मुस्लिम लीग में समझौता हो गया। एक अन्य वैश्विक कारक प्रथम विश्व युद्ध से उत्पन्न राष्ट्रीय चेतना ने कुमाऊँ में कुमाऊँ परिषद के रूप में जन्म लिया। 

कुली बेगार आंदोलन के ऐतिहासिक पक्ष पर विस्तार से बात रखी

प्रो0 दया पंत ने उत्तराखंड के समाचार पत्रों और कुली बेगार आंदोलन के ऐतिहासिक पक्ष पर विस्तार से बात रखी। उन्होंने कहा कि अल्मोड़ा अखबार का योगदान कुली बेगार आंदोलन को बढ़ाने में बहुत अधिक है।
क्षेत्रीय पुरातत्त्व अधिकारी डॉ0 चंद्र सिंह चौहान ने बेगार के विभन्न रूप और इतिहास के विभिन्न कालखंडों में प्रचलित बेगार की प्रवृत्तियों पर विस्तार से बात रखी। प्रो0 संजय टम्टा ने कुली बेगार आंदोलन और दलित चेतना के संबंध में बात रखी।
अध्यक्षता करते हुए डॉ0 वसुधा पंत ने पं0 हरगोविन्द पंत जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। इस सत्र का संचालन प्रो0 अनिल जोशी ने किया।
वेबिनार के द्वितीय सत्र में अध्यक्ष रूप में प्रो0 अतुल सकलानी मौजूद रहे। इस अवसर पर मुख्य अतिथ रूप में उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 ओ0 पी0 एस0 नेगी, डॉ0 योगेश धस्माना, डॉ0 ज्योति साह, डॉ0 शरद भट्ट, प्रो0 अतुल सकलानी ने कुलीबेगार के संबंध में व्याख्यान दिया। द्वितीय सत्र में श्री जीवन भट्ट ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

कुली बेगार आंदोलन हमारे उत्तराखंड के इतिहास में दर्ज हुआ है

इससे पूर्व उद्घाटन सत्र पर उद्घाटन सत्र में अध्यक्ष रूप में कर्नल रवि पांडे, मुख्य अतिथि रूप में प्रो0 एन0 एस0 भंडारी, डॉ0 वसुधा पांडे, प्रो0 एम0 पी0 जोशी, कर्नल रवि पांडे, आयोजक सचिव प्रो0 वी0 डी0 एस0 नेगी, संयोजक प्रो0 अनिल जोशी मौजूद रहे। उद्घाटन अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति ने मुख्य अतिथि के रूप में कहा कि कुली बेगार आंदोलन हमारे उत्तराखंड के इतिहास में दर्ज हुआ है। राष्ट्रीय स्वाधीनता संग्राम में यहां के जनमानस का योगदान अहम रहा है। हमें इन आंदोलनों से सीख लेने की आवश्यकता है। आयोजक सचिव प्रो0 वी0डी0एस0नेगी एवं संयोजक प्रो0 अनिल जोशी ने भी कुली बेगार आंदोलन के विभिन्न पक्षों में बात रखी।
प्रथम दिवस के द्वितीय सत्र में डॉ0 गोबिंद पंत राजू, डॉ0 हीरा भाकुनी, एडवोकेट श्री गोविन्द्र सिंह भंडारी, प्रो0 दिवा भट्ट, अध्यक्षता प्रो0 ललित जोशी ने संबोधित किया। प्रथम एवं द्वितीय सत्र में क्रमशः डॉ0 गोकुल देउपा एवं डॉ0 चंद्रप्रकाश फुलोरिया ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

यह लोग रहे मौजूद

वेबिनार में डॉ0 गोकुल देउपा, प्रेमा बिष्ट, प्रो0 अवनींद्र जोशी, प्रो0 भीमा मनराल, डॉ0 चंद्र प्रकाश फुलोरिया, डॉ0 ज्योति साह, डॉ0 ममता असवाल, डॉ0 रश्मि पंत, प्रो0 हेम पांडे, प्रो0 शरद भट्ट, डॉ0 नंदन सिंह बिष्ख्ट, डॉ0 ललित चंद्र जोशी, डॉ0 नवीन रजवार, डॉ0 नाजिया खान, प्रो0 प्रेमलता पंत, डॉ0 सरोज वर्मा, डॉ0 सुधीर नैनवाल, शोधार्थी नरेंदद्र कुमार, चंदन जीना, पूजा बिष्ट, प्रेमा बिष्ट, डॉ0 दर्शन मेहता, नीरजा बिष्ट आदि सहित देशभर के विद्वान, छात्र-छात्राएं, शिक्षक एवं शोधार्थी उपस्थित रहे।