August 16, 2022

अल्मोड़ा: कोविड-19 से मृत्यु होने पर मृतक आश्रित को सरकार नहीं दे रही है 4 लाख की सहायता राशि- जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया

 3,836 total views,  6 views today

कोरोना काल में सोशल मीडिया के माध्यम से भी बहुत सी भ्रामक सूचना प्रसारित की जा रही है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि “आपदा प्रबंधन अधिनियम और महामारी अधिनियम के तहत कोरोना से जान गंवाने वाले व्यक्ति के परिजनों को मुआवजे के रूप में 4 लाख रुपये का मुआवजा दिया जा रहा है। जिस संबंध में अल्मोड़ा जिले के जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि सोशल मीडिया पर यह भ्रामक सूचना प्रसारित की जा रही है कि कोविड-19 से मृत्यु होने पर मृतक आश्रित को 4 लाख की सहायता राशि उपलब्ध करायी जा रही है। जिलाधिकारी ने बताया कि सचिव, आपदा प्रबन्धन एवं पनुर्वास विभाग, उत्तराखण्ड शासन द्वारा वित्तीय वर्ष 2015-20 तक की अवधि के लिये राज्य आपदा मोचन निधि एवं राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया कोष से सहायता हेतु मदों एवं मानकों का पुनर्निधारण किया गया है जिसके अन्तर्गत कोविड-19 महामारी आच्छादित नहीं है।

कोविड-19 संक्रमण से मानव हानि होने पर राहत राशि प्रदान किये जाने का नहीं हुआ है कोई उल्लेख-

जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि सचिव आपदा प्रबन्धन एवं पुनर्वास विभाग उत्तराखण्ड ने अपने पत्र में स्पष्ट किया है कि भारत सरकार, गृह मंत्रालय, राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्रभाग, नई दिल्ली द्वारा कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव में कोविड-19 मानकों का निर्धारण किया गया है, जिसके अन्तर्गत कोविड-19 संक्रमण से मानव हानि होने पर राहत राशि प्रदान किये जाने का उल्लेख नहीं किया गया है।

सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रही है भ्रामक सूचना-

जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि सोशल मीडिया पर प्रसारित हो रहे राज्य आपदा मोचक निधि/राष्ट्रीय आपदा मोचक निधि के अन्तर्गत सहायता हेतु कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत मृत्यु होने पर मुआवजा दिये जाने सम्बन्धी आवेदन पत्र आपदा प्रबन्धन विभाग द्वारा निर्गत नहीं किया गया है।