July 3, 2022

अल्मोड़ा: विद्यार्थियों, शिक्षकों को सम्मानित कर उनका मनोबल बढ़ा रहे पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक

 1,054 total views,  2 views today

शिक्षकों द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में दिए गए अतुल्य योगदान तथा कर्मचारियों के सहयोग व छात्र-छात्राओं की कोरोना काल में तनाव के बाद भी कठिन परिश्रम से अर्जित की गयी शिक्षा के प्रति उन्हें प्रोत्साहित करने एवं उनके मनोबल को बढाने के लिये वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक द्वारा लगातार उन्हें सम्मानित किया जा रहा है। कर्नाटक द्वारा इस मुहिम के अन्तर्गत अधिकांश विद्यालयों को सम्मानित किए जाने का कार्य किया जा चुका है तथा शेष विद्यालयों को चिन्हित कर उन्हें प्रेरित करने हेतु सम्मान समारोह का आयोजन लगातार किया जा रहा है। इसी के तहत आज विधानसभा अल्मोडा के राजकीय इन्टर कालेज स्यालीधार के सम्मान समारोह में 105 शिक्षकों, कर्मचारियों ,विद्यार्थियों तथा अभिभावकों द्वारा सम्मान समारोह में प्रतिभाग किया गया।

मेधावी विद्यार्थियों को मेडल देकर किया सम्मानित

सम्मान समारोह में कर्नाटक ने सभी शिक्षक, कर्मचारियों तथा छात्राओं, अभिभावकों का स्वागत किया। कार्यक्रम को प्रारम्भ करते हुए उन्होने शिक्षकों,कर्मचारियों,आंगनबाडी कर्मचारियों,भोजन माताओं को अंगवस्त्र व प्रतीक चिन्ह भेंट किए। तदुपरान्त मेधावी विद्यार्थियों को मेडल देकर सम्मानित करते हुए अंगवस्त्र एवं प्रतीक चिन्ह प्रदान किए गए। विद्यालय स्टाफ तथा विद्यार्थी इस सम्मान से अति उत्साहित दिखाई दिए। उन्होंने इस सम्मान की भूरि-भूरि प्रशंसा की। इस अवसर पर प्रधानाचार्या ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाने से शिक्षकों,कर्मचारियों एवं छात्र-छात्राओं का मनोबल बढेगा तथा वे प्रोत्साहित होकर शिक्षा के क्षेत्र में अपना और अधिक योगदान देंगे। उन्होंने पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक का स्वागत करते हुए आभार प्रकट कर उन्हें धन्यवाद प्रेषित किया कि उनके द्वारा यह सराहनीय कदम उठाकर शिक्षकों-कर्मचारियों तथा विद्यार्थियों को सम्मानित किये जाने की एक अच्छी पहल की शुरूआत की है। प्रधानाचार्य ने कहा कि इससे छोटी कक्षाओं के विद्यार्थी भी भविष्य में बोर्ड परीक्षाओं में सर्वश्रेष्ठ अंक प्राप्त कर इस सम्मान के हकदार बनने हेतु प्रोत्साहित होंगे।

बिना मेहनत के पढाई करने से अच्छी सफलता पाने की उम्मीद करना बिना दौड़ के मैराथन जीतने की उम्मीद समान

कर्नाटक ने विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुये कहा कि आप और आगे बढें और आने वाले समय में शिक्षा क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर भारत का नाम रोशन करें तथा अपने जीवन को सही दिशा में ले जाने का कार्य करें। बिना मेहनत के पढाई करने से अच्छी सफलता पाने की उम्मीद करना बिना दौड़ के मैराथन जीतने की उम्मीद करना है। अतः विद्यार्थियों को कठोर परिश्रम करने,अनुशासित रहने, मानसिक व शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने व अपने को कुसंगति से बचाते हुए एक आदर्श विद्यार्थी बन कर अपने माता-पिता व गुरूओं के गौरव को बढाना चाहिए। कर्नाटक ने अपने संवाद में कहा कि गुरू ही शिक्षण के साथ-साथ विद्यार्थियों के चरित्र का निर्माण करने, उनमें अच्छे नैतिक मूल्यों और आदर्शो का विकास करने का काम करता है। साथ ही शिक्षक अपने छात्रों के व्यक्तित्व को समान रूप से सुधारने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षक विद्यार्थियों के जीवन को न सिर्फ वास्तविक आकार देते हैं बल्कि उन्हें इस काबिल बनाते हैं कि छात्र पूरी दुनिया में अंधकार होने के बाद भी प्रकाश की तरह जलते रहें जिससे हमारा राष्ट्र ढेर सारे प्रकाश के साथ प्रबुद्व हो सके। इसीलिए भारत देश में सभी शिक्षकों को सम्मान दिया जाता है साथ ही हमारी सफलता के पीछे हमारे शिक्षक का हाथ होता है। मेहनत,लगन और उचित मार्गदर्शन से सफलता अवश्य मिलती है विद्यार्थियों में लक्ष्य प्राप्ति के लिये स्वयं पर विश्वास होना भी जरूरी है। उन्हेांने कहा कि कोरोना काल में मेहनत कर सफलता अर्जित करने में विद्यार्थियों की कडी मेहनत दिखाई दी और सफलता के लिए आत्मविश्वास भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि सम्मान समारोह गुरूओं के सम्मान और छात्र-छात्राओं से संवाद कर उन्हें प्रोत्साहित किए जाने का कार्यक्रम है।

यह लोग रहे मौजूद

इस अवसर पर मुख्य रूप से गौरव काण्डपाल, देवेन्द्र प्रसाद कर्नाटक, हेमचन्द्र जोशी, गौरव अवस्थी, शुभम जोशी, रोहित शैली, धीरज बिष्ट, प्रकाश मेहता, रोहित बिष्ट, रश्मि काण्डपाल, किरन कोरंगा, हर्षिता तिवारी, आशा मेहता, सीता रावत आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन चित्रा कश्यप द्वारा किया गया।