February 6, 2023

Khabribox

Aawaj Aap Ki

अल्मोड़ा: पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक ने राष्ट्रीय राजमार्ग को बाईपास बनाये जाने के सम्बन्ध में केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री को भेजा ज्ञापन

 2,242 total views,  2 views today

अल्मोड़ा से जुड़ी खबर सामने आई है। पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक ने नितिन गडकरी जी केन्द्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग व जहाजरानी मंत्री, भारत सरकार नयी दिल्ली को एक ज्ञापन प्रेक्षित किया है।

ज्ञापन में कहीं यह बात

जिसमें कहा गया है कि उत्तराखण्ड राज्य के कुमांऊ क्षेत्र के प्राचीन ऐतिहासिक नगर अल्मोडा में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 109 (पूर्व एन.एच. संख्या-87) के अन्तर्गत क्वारब-अल्मोडा-कोसी का चौडीकरण प्रस्तावित है । अल्मोडा लोअर माल रोड बाईपास बनने एवं राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित होने के पूर्व से ही सड़क के किनारे लोधिया से कोसी बाईपास तक काफी भवन निर्मित हो गये थे । अब राष्ट्रीय राजमार्ग को डबल लेन किये जाने से इन पूर्व निर्मित भवनों के टूटने की आशंका से भवन स्वामी भयभीत हैं। जबकि इस बाईपास को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किये जाने का कोई औचित्य नहीं था । आप अवगत हैं कि उत्तराखण्ड के पर्वतीय जनपदों में लगातार पलायन हो रहा है । यदि लोधिया-अल्मोडा लोअर माल रोड-कोसी मोटर मार्ग का चौडीकरण किया जाता है तो सैकड़ों लोगों को बेघर व व्यवसाय विहीन होना पडेगा, इससे अनचाह रूप से पलायन बढेगा। स्थानीय नागरिकों का सुझाव है कि वर्तमान समय में क्वारब- कोसी मोटर मार्ग जो चाँसली से कोसी तक निर्मित है को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 109 का बाईपास घोषित करते हुये डबल लेन में परिवर्तित किये जाने से इस समस्या का निराकरण किया जा सकता है। क्योंकि इस मोटर मार्ग के दोनों ओर की भूमि पूर्णरूप से खाली है । अवगत कराना है कि राष्ट्रीय राजमार्ग एवं अवसंरचना विकास निगम लि.मंत्रालय के प्रतिनिधियों व सलाहकारों ने भी पूर्व में इसका निरीक्षण किया है जिसे इन अधिकारियों द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग के बाईपास हेतु उचित पाया गया । उपरोक्त परिपेक्ष्य में आपसे पुनः अनुरोध है कि लोधिया-अल्मोडा लोअर माल रोड-कोसी से होकर गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग के स्थान पर चौंसली कोसी मोटर मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग का बाईपास बनाये जाने हेतु सम्बन्धितों को तत्काल आदेश निर्गत करने की कृपा करें। ताकि सडक निर्माण से पूर्व में निर्मित भवनों तथा आम नागरिकों के व्यवसाय को बचाया जा सके।