May 23, 2022

अल्मोड़ा: जिलाधिकारी ने जिला उद्योग मित्र व एकल खिड़की सुगमता के तहत गठित जिला प्राधिकृत समिति की बैठक की समीक्षा की, दिए अहम निर्देश

 2,354 total views,  2 views today

अल्मोड़ा जिले के जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट में जिला उद्योग मित्र व एकल खिड़की सुगमता के तहत गठित जिला प्राधिकृत समिति की बैठक की समीक्षा की। जिसमें इस बैठक में उद्योग केन्द्र में विभिन्न योजनाओं में प्राप्त ब्याज उपादान के अन्तर्गत प्राप्त आवेदनों व दावों का निस्तारण किया गया।

सभी औपचारिकतायें पूर्ण करते हुए आवेदनों पर अग्रिम कार्यवाही के दिए निर्देश-

इस बैठक में एमएसएमई योजना 2015 के अन्तर्गत उत्तराखण्ड एकल खिड़की सुगमता व्यवस्था नीति के तहत विभिन्न उद्यमियों के आवेदन पत्रों को समिति के सम्मुख प्रस्तुत किया गया। सभी आवेदनों पर विचार करते हुए जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने सभी औपचारिकतायें पूर्ण करते हुए आवेदनों पर अग्रिम कार्यवाही के निर्देश दिये।

03 आवेदन पत्रों में पूर्ण अभिलेख प्राप्त होने पर जिलाधिकारी द्वारा दी गई स्वीकृति-

इस बैठक में एकल खिड़की सुगमता के कुल 10 आवेदन पत्रों में से 03 आवेदन पत्रों में पूर्ण अभिलेख प्राप्त होने पर जिलाधिकारी द्वारा स्वीकृति प्रदान की गयी जिसमें मै0 तिरूपति बाल रिर्सोट एण्ड वेलनेस सेन्टर प्रो0 संजय गौड़ ग्राम एवं पो0 ठाठ लमगड़ा, मै0 योगेश जोशी ग्राम खास तिलाड़ी पटटा तल्ला लाखनपुर, चिलारा, सोमेश्वर व्यवसाय सोलर एनर्जी एवं मै0 राकेश नन्दन सिंगल सोलर प्लान्ट प्रा0 लि0 ग्राम बाटकोटली, रतखाल, रानीखेत है।

जिलाधिकारी ने यह भी दिए निर्देश-

बैठक में जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि जिन आवेदन पत्रों में औपचारिकतायें पूर्ण नहीं है उन्हें समय से पूर्ण करते हुए अगली बैठक में प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि जहा पर भी वित्तीय मामलों की समस्यायें आ रही है तो उन मामलों को उप समिति के सम्मुख प्रस्तुत कर उनका समाधान कर लिया जाय। उन्होंने सभी सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि उनके विभाग द्वारा जो भी अनापत्ति प्रमाण पत्र निर्गत किये जाने है उन्हें समय से निर्गत किया जाय।

सभी यूनिट व फर्म का कमेटी के माध्यम से निरीक्षण किया जाय इसके उपरान्त ही दावे होंगे स्वीकृत-

जिलाधिकारी ने जिला उद्योग मित्र की समीक्षा करते हुए कहा कि ब्याज उपादान के जो भी दावे प्राप्त होते है उन सभी यूनिट व फर्म का कमेटी के माध्यम से निरीक्षण किया जाय इसके उपरान्त ही दावे स्वीकृत किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि सम्बन्धित लाभार्थी द्वारा ब्याज उपादान के दावे प्रस्तुत करते समय विद्युत बिल का भुगतान के सम्बन्ध में विद्युत विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र तथा इसी प्रकार अन्य विभागों जिनमें पर्यटन, राज्यकर, राजस्व, अग्निशमन आदि विभागों की कोई आपत्ति न हो।

30 जून तक फर्मो का स्थलीय निरीक्षण करना हो सुनिश्चित-

जिलाधिकारी ने कहा कि जिन फर्मो द्वारा कार्य नहीं किया जा रहा है उन फर्मों का स्थलीय निरीक्षण अवश्य रूप से किया जाय। इस पर जिलाधिकारी ने महाप्रबन्धक उद्योग को निर्देश दिये कि वे 30 जून तक फर्मो का स्थलीय निरीक्षण करना सुनिश्चित करें। बैठक में औद्योगिक आस्थान स्यालीधार में आॅक्सीजन प्लान्ट स्थापना हेतु मोड्यूलर इन्फा प्रोजेक्ट प्रा0 लि0 को भूमि दिये जाने, औद्योगिक आस्थान पातालदेवी हिमाद्री हंस हैण्डलूम, अल्मोडा को आवंटित लीज भूमि पर चिकित्सालय संचालित किये जाने के अनुरोध प्रस्ताव पर जिलाधिकारी द्वारा महाप्रबन्धक उद्योग को आगणन निदेशालय को भेजने के निर्देश दिये।

इस बैठक में यह लोग रहे उपस्थित-

इस बैठक में उपजिलाधिकारी सीमा विश्वकर्मा, महाप्रबन्धक उद्योग डा0 दीपक मुरारी, मुख्य कोषाधिकारी हेमेन्द्र प्रकाश गंगवार, वरिष्ठ परियोजना अधिकारी उरेडा जी0सी0 मल्होत्रा, पर्यटन विकास अधिकारी राहुल चैबे, सहायक श्रमायुक्त उमेश राय, अधिशासी अभिन्ता विद्युत कन्हैया मिश्रा, सहायक अभियन्ता जल संस्थान मुकेश कुमार व समिति के अन्य सदस्य उपस्थित रहे।