October 26, 2021

हर साल 15 जून को मनाया जाता है वैश्विक पवन दिवस, भारत समेत दुनिया के 75 देशों में मनाया जाता है यह दिवस

 942 total views,  2 views today

आज ही के दिन दुनिया भर में वैश्विक पवन दिवस मनाया जाता है। यह दिवस हर साल 15 जून को मनाया जाता है। जैसे मानव जीवन में हवा का विशेष महत्व होता है, उसी प्रकार इस वैश्विक दिवस की भी महत्ता होती है। वैश्विक पवन दिवस भारत समेत दुनिया के 75 देशों में मनाया जाता है।

2007 से प्रतिवर्ष मनाया जाता है यह दिवस, जाने इसका इतिहास-

ग्लोबल विंड डे का आयोजन यूरोपीय पवन ऊर्जा संघ और ग्लोबल विंड एनर्जी काउंसिल (जीडब्ल्यूईसी) और राष्ट्रीय संघों द्वारा किया जाता है। आम लोगों को पवन ऊर्जा और इसके लाभों से परिचित कराने के लिए इस दिन की स्थापना की गई थी। यूरोपीय पवन ऊर्जा संघ और ग्लोबल विंड एनर्जी काउंसिल ने इस दिन को पहली बार वर्ष 2007 में मनाया था। इसके बाद 2009 में इसे विश्व स्तर पर मनाने का निर्णय लिया गया। वर्ष 2009 तक विश्व पवन दिवस या वैश्विक पवन दिवस नहीं था। 2009 के बाद से यह दिन और अधिक समावेशी हो गया है और इस दिन का लोगों को बताया गया। दुनिया भर के लोगों को पवन ऊर्जा के बारे में जागरूक करने और हमारी ऊर्जा प्रणालियों को फिर से आकार देने, हमारी अर्थव्यवस्थाओं को डीकार्बोनाइज करने और नौकरियों और विकास को बढ़ावा देने की क्षमता के बारे में जागरूक करने के लिए वर्षों से विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। 2007 से यह दिवस प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

जाने इस दिवस का महत्व-

हम ऐसे वक्त में जी रहे हैं, जहां ग्लोबल वार्मिंग का खतरा दुनिया भर में मंडरा रहा है। ऐसे में पवन ऊर्जा जैसे ऊर्जा रूपों का कुशल तरीके से उपयोग करना महत्वपूर्ण हो जाता है। Globalwindday.org के अनुसार, पवन ऊर्जा वर्तमान में एक परिपक्व और मुख्यधारा की तकनीक है। यह 2015 में 100 अरब डॉलर से अधिक के निवेश के साथ दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते औद्योगिक क्षेत्रों में से एक है। अकेले यूरोपीय संघ में, पवन उद्योग ने पिछले वर्ष में संयुक्त रूप से गैस और कोयले की तुलना में अधिक स्थापित किया गया है। यह क्षेत्र की 15% बिजली खपत को पूरा करने के लिए पर्याप्त संचयी स्थापित क्षमता के साथ किया जाता है, जो 87 मिलियन घरों को बिजली देने के बराबर है। 2007 में ईडब्ल्यूईए की ओर से ग्लोबल विंड डे का उद्घाटन वर्ष आयोजित किया गया था। उस समय इस उत्सव के पीछे की वजह राष्ट्रीय पवन ऊर्जा संघों पवन ऊर्जा के क्षेत्र में सक्रिय कंपनियों द्वारा आयोजित कार्यक्रमों का समन्वय किया जाना था। गौर करने एक बात यह भी है कि यूरोप से, पवन दिवस लगभग 18 देशों में पहुंचा लगभग 35,000 लोगों ने हिस्सा लिया।