April 21, 2024

Khabribox

Aawaj Aap Ki

Health tips: गुस्सा करने से शरीर को झेलने पड़ते हैं यह नुकसान, काबू करने के लिए अपनाएं यह टिप्स

मानव की प्रवत्ति में गुस्सा एक इमोशन है। हर‌ मनुष्य को अलग अलग तरह से गुस्सा आता है। गुस्से का प्रभाव हेल्थ पर बुरा पड़ता है। संयमित क्रोध आपके लिए उपयोगी हो सकता है जो आपको सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रेरित करता है। दूसरी ओर क्रोध एक शक्तिशाली भावना है जिसे सही रूप में नहीं संभाला गया, तो यह आपके लिए विनाशकारी परिणाम भी दे सकती है। अनियंत्रित क्रोध से व्यक्ति तर्क-वितर्क, शारीरिक झगड़े, शारीरिक शोषण, मारपीट तक करके खुद को नुकसान पहुंचा सकता है।

💊आइए जानें इसका बुरा असर-

🍭दिमाग पर असर पड़ता है-

क्रोध आने पर मस्तिष्क में ऐसे रासायनिक तत्व बनते हैं, जिनका शरीर और मन पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जो लोग ज्यादा गुस्सा करते हैं उनमें ब्रेन स्ट्रोक के चांसिस भी ज्यादा होते हैं।

🍭ब्लड प्रेशर बढ़ता है-

जब हम किसी बात को लेकर बहुत जल्द रिएक्ट करने लगते हैं तो धीरे-धीरे शरीर में रक्त का प्रभाव तेजी से होने लगता है। जो आगे चलकर हाई बी.पी. की बिमारी को जन्म देता है।

🍭सोचने की शक्ति कमजोर होने की समस्या-

दिमाग पर जरुरत से ज्यादा जोर डालने से व्यक्ति के सोचने-समझने की शक्ति कमजोर होती है। जिसके चलते वह जीवन में दूसरों से पीछे रह जाता है।

🍭तनाव के शिकार-

छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने से आप तनाव और डिप्रेशन के शिकार होते हैं। जिसके चलते आप खुश रहने की बजाय उदास और मायूस रहने लगते हैं या फिर अपना गुस्सा हमेशा दूसरों पर निकालने की सोच रखते हैं।

🍭वीक इम्यून सिस्टम का होना-

ज्यादा गुस्सा करने से आपकी पाचन शक्ति कमजोर होती है। शोध में भी यह पाया गया है कि जो लोग ज्यादा गुस्सा करते हैं या फिर मन में नेगेटिव बातें रखते हैं उन्हें दूसरों के मुकाबले खाना 3 से 4 घंटे बाद पचता है।

🍭ग्रोथ में कमी होना-

जो बच्चे ज्यादा गुस्सा करते हैं, उसका असर सीधा उनकी ग्रोथ पर पड़ता है। हमेशा चिड़चिड़ा रहने की वजह से बच्चा प्रॉपर हाइट नहीं ग्रो कर पाता।

🍭नींद पर बुरा असर पड़ता है-

स्वस्थ जीवन के लिए साउंड स्लीप बहुत जरुरी है। मगर जो लोग ज्यादा गुस्सा करते हैं, उनके दिमाग की कोशिकाएं इतनी स्ट्रेस में आ जाती हैं कि उनके लिए चैन की नींद ले पाना मुश्किल काम हो जाता है।

🍭दिल पर बुरा असर-

क्रोध और शत्रुता जैसी भावनाएं आपको लड़ाई करने के लिए उकसा सकती हैं। जब ऐसा होता है, तो एड्रेनालीन और कोर्टिसोल स्ट्रेस हार्मोन, हृदय गति और श्वास गति को बढ़ा देते हैं। इससे एनर्जी लेवल बढ़ता है और आपकी रक्त वाहिकाएं कस जाती हैं। जिससे आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। यदि ऐसा अक्सर होता है, तो इससे आपकी धमनी की दीवारों पर बुरा असर पड़ता है। इससे हार्ट डिजीज का खतरा बढ़ जाता है।

💊गुस्से को काबू करने के उपाय-

🍭क्षमा से ही क्रोध को जीता जा सकता है। यानी हमें लोगों को माफ करने का गुण अपनाना चाहिए।
🍭क्रोध पर काबू पाने के लिए धैर्य और समझदारी होना बहुत जरूरी है।
🍭जब भी क्रोध आए तो धैर्य रखकर उसे रोकें, कुछ भी बोलने से पहले विचार करें कि आप क्या कहने या करने जा रहे हैं और उसका क्या परिणाम होगा।
🍭क्रोध के संबंध में हमेशा सावधान रहें। अपने क्रोध के कारणों को समझें और उनसे बचने का प्रयास करें।
🍭जब भी क्रोध आए तब मुंह में मिश्री रख लेना चाहिए। जैसे-जैसे मिश्री पिघलेगी, क्रोध भी खत्म होता जाएगा।
🍭गुस्से को काबू करने के लिए हर रोज मेडिटेशन करना चाहिए।