January 27, 2022

24 जुलाई: आज मनाया जाता है गुरु पूर्णिमा, आषाढ़ पूर्णिमा-धम्म चक्र दिवस पर प्रधानमंत्री देश को करेंगे संबोधित

 2,599 total views,  4 views today

आज 24 जुलाई है। आज गुरु पूर्णिमा है। हिंदू धर्म में पूर्णिमा का बहुत महत्व होता है। इस दिन शुभ कार्य किया जाता है।

आषाढ़ मास की पूर्णिमा का मुर्हत-

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 23 जुलाई दिन शुक्रवार को दिन में 10 बजकर 43 मिनट से हो रहा है। इसका समापन 24 जुलाई को सुबह 08 बजकर 06 मिनट पर हो रहा है। उदया तिथि मान्य होती है, इसलिए आषाढ़ पूर्णिमा या गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई दिन शनिवार को है। आषाढ़ पूर्णिमा के दिन चंद्रमा का उदय शाम को 07 बजकर 51 मिनट पर होगा। हालांकि चंद्र के अस्त होने का समय प्राप्त नहीं हो रहा है। इस दिन राहुकाल सुबह में ही है। आषाढ़ पूर्णिमा के दिन राहुकाल प्रात: 09 बजकर 03 मिनट से सुबह 10 बजकर 45 मिनट तक है। राहुकाल में शुभ कार्य करने की मनाही होती है।

आषाढ़ गुरु पूर्णिमा का विशेष है महत्व-

गुरु पूर्णिमा का पर्व गुरु महर्षि वेद व्यास जी के जन्म तिथि के अवसर पर मनाया जाता है। महर्षि व्यास जी ने हिंदू धर्म के चारों वेदों का ज्ञान दिया है। हिंदू परंपरा के अनुसार गुरु अपने शिष्यों को गलत मार्ग पर चलने से बचाते है। गुरु को भगवान से भी बढ़ा दर्जा दिया गया है। हिंदू धर्म में कुल पुराणों की संख्या 18 है और सभी के रचयिता महर्षि वेद व्यास जी हैं। आदि गुरु सह वेदों के रचयिता महर्षि वेद-व्यास का अवतरण आषाढ़ पूर्णिमा के दिन ही हुआ था। उन्होंने सभी पुराणों की भी रचना की है। इसलिए इस पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रुप में मनाते हैं। इस दिन सभी अपने-अपने गुरु की पूजा की जाती है। इस साल आषाढ़ पूर्णिमा या गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई शनिवार को है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यक्रम को करेंगे संबोधित-

गुरु पूर्णिमा का पर्व पूरे देश में मनाया जा रहा है। इस अवसर पर थोड़ी देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आषाढ़ पूर्णिमा-धम्म चक्र दिवस कार्यक्रम में अपना संदेश साझा करेंगे। खुद पीएम मोदी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने लिखा, 24 जुलाई को सुबह करीब 8:30 बजे आषाढ़ पूर्णिमा-धम्म चक्र दिवस कार्यक्रम में अपना संदेश साझा करूंगा।