August 11, 2022

कोविड उपचार में पेट के कीड़ों की दवा बन सकती है किफायती विकल्प, डीजीसीआई से मिली मंजूरी

 1,869 total views,  2 views today


वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) इंडिया और लैक्‍साई लाइफ साइंसिस प्राइवेट लिमिटेड ने कोविड के उपचार के लिए पेट के कीड़ों की दवा निकोलसमाइड का दूसरे चरण का नैदानिक परीक्षण शुरू कर दिया है। इन कंपनियों को भारतीय औषध महानियंत्रक – डीजीसीआई से नियामक अनुमति मिल चुकी है।

इस परीक्षण के माध्‍यम से अस्‍पताल में भर्ती कोविड रोगियों के उपचार में निकोलसमाइड की प्रभावकारिता, सुरक्षा और सहनशीलता का कई बिन्‍दुओं के माध्‍यम से मूल्‍यांकन किया जाएगा।

सुरक्षा के पहलू से भी इस दवा की कई बार जांच की जा चुकी है

निकोलसमाइड का वयस्‍क लोगों और बच्‍चों में फीता कृमि संक्रमण के उपचार में व्‍यापक इस्‍तेमाल किया जा चुका है। सुरक्षा के पहलू से भी इस दवा की कई बार जांच की जा चुकी है और इसे खुराकों के विभिन्‍न स्‍तरों पर मानवीय उपयोग के लिए सुरक्षित पाया गया है।

कोविड ​​​​-19 रोगियों के फेफड़ों में होने वाली सिंकिटिया की समस्या को करेगा दूर

निकोलसमाइड एक जेनेरिक और सस्ती दवा है, जो भारत में आसानी से उपलब्ध है और भारत के लोगों को उपलब्ध कराया जा सकता है। इस परियोजना में किंग्स कॉलेज, लंदन के अनुसंधान समूह द्वारा निकोलसमाइड की पहचान एक आशाजनक पुनर्खरीद दवा के रूप में की गई थी।

निकोलसमाइड हो सकता है एक सस्ता और प्रभावी विकल्प

सीएसआईआर-आईआईसीटी हैदराबाद के निदेशक डॉ श्रीवारी चंद्रशेखर ने इस बात पर प्रकाश डाला कि आईआईसीटी में विकसित उन्नत तकनीक के आधार पर लक्षाई लाइफ साइंसेज द्वारा सक्रिय फार्मास्युटिकल संघटक (एपीआई) बनाया जा रहा है और लैब इस महत्वपूर्ण नैदानिक ​​परीक्षण में भागीदार है, जो परीक्षण सफल होने पर मरीजों के लिए लागत प्रभावी चिकित्सा विकल्प प्रदान कर सकता है।

पिछले साल ही शुरू कर दिए गए थे परीक्षण के प्रयास

लक्षाई के सीईओ डॉ राम उपाध्याय ने बताया कि निकलोसामाइड की क्षमता को देखते हुए पिछले साल ही क्लिनिकल परीक्षण करने के प्रयास शुरू किए गए थे। ड्रग रेगुलेटर से मंजूरी मिलने के बाद इस हफ्ते अलग-अलग जगहों पर क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर दिया गया है और उम्मीद जताई जा रही है  कि यह ट्रायल 8 से 12 हफ्तों में पूरा हो जाएगा।