December 1, 2021

मिजोरम: गांव में इंटरनेट कनेक्टिविटी की सुविधा न होने से आनलाइन पढ़ाई के लिए रोजाना 3 किलोमीटर का सफर तय करते हैं बच्चे

 2,108 total views,  2 views today

देश भर में कोरोना महामारी ने अपना तांडव मचाया है। जिससे लोगों में भय बना हुआ है। हालांकि अब भारत में कोरोना की रफ़्तार हल्की होने लगी है। कोरोना महामारी के चलते बच्चों के भविष्य पर भी असर पड़ा है। जिसमें आनलाइन पढ़ाई के माध्यम से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। वही देश के पूर्वोत्तर में स्थित मिजोरम में पढ़ाई के लिए बच्चों को काफी मशक़्क़त का सामना करना पड़ रहा है।

आनलाइन पढ़ाई के लिए लंबा सफर तय करते हैं बच्चे-

देश के पूर्वोत्तर में स्थित मिजोरम में आनलाइन पढ़ाई के लिए बच्चों को रोजाना 3 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है। बारिश के दौरान भी छात्रों को परीक्षा देने या असाइनमेंट जमा करने के लिए तीन किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है।

गांव में नहीं है इंटरनेट की सुविधा-

गांव में इंटरनेट कनेक्टिविटी की सुविधा नहीं होने के कारण छोटे और बड़े छात्रों को दिक़्क़तों का सामना करना पड़ता है। जिसके चलते मिजोरम के ममित जिले के पुकिंग वेंगथर गांव में इंटरनेट कनेक्टिविटी की कमी के चलते छात्रों की पढ़ाई पर असर पड़ रहा है।