November 29, 2021

सुबह की ताज़ा खबरें(27 अगस्त)

 2,762 total views,  2 views today

◆ विश्व स्वास्थ्य संगठन के चीफ साइंटिस्ट ने कहा है कि भारत पेंडेमिक से एंडेमिक की ओर बढ़ रहा ।

◆ विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक डॉक्‍टर सौम्‍या स्‍वामीनाथन ने कहा है कि कोविड को लेकर अगले कुछ महीने भारत के लिए बहुत महत्‍वपूर्ण है।

◆ रक्षामंत्री शनिवार को चेन्‍नई में, स्‍वदेश में निर्मित भारतीय तटरक्षक पोत विग्रह के कार्य संचालन का उद्घाटन करेंगे।

◆ वित्तमंत्री ने नई दिल्ली में ब्रिक्स देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों की भारतीय ब्रिक्स चेयरमैनशिप के अन्‍तर्गत दूसरी बैठक की अध्यक्षता की।

◆ सतत विकास लक्ष्‍य की प्राप्ति के लिए पूर्वोतर क्षेत्र जिला एस.डी.जी. इंडेक्स रिपोर्ट और डैशबोर्ड 2021-22 के पहले संस्करण को नई दिल्ली में जारी।

◆ राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा – नई शिक्षा नीति आज की युवा पीढी को 21वीं सदी की जरूरतों और आकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम बनाएगी।

◆ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बैंगलुरू के युवा कलाकार को पत्र लिखकर उसकी चित्रकारी की प्रशंसा की।

◆ सरकार ने कहा – अफगान लोगों के साथ दोस्‍ती भारत के लिए महत्‍वपूर्ण, विदेश मंत्री ने राजनीतिक दलों के नेताओं को अफगानिस्‍तान की वर्तमान स्थिति की जानकारी दी।

◆ आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर केरल में कन्नूर के पय्यान्नूर में विभिन्न स्थानों पर हेरिटेज वॉक का आयोजन।

◆ इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 2019 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में सीएए / एनआरसी के विरोध में एक भड़काऊ भाषण देने के आरोप वाले मामले में डॉ. कफील खान के ख़िलाफ पारित संपूर्ण आपराधिक कार्यवाही को रद्द कर दिया है।

◆ उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राजकीय मेडिकल कॉलेज, बुलंदशहर एवं सुपर स्पेशियलिटी कैंसर संस्थान, लखनऊ का नामकरण पूर्व मुख्यमंत्री स्व. कल्याण सिंह के नाम पर करने का निर्णय लिया गया है: उत्तर प्रदेश सरकार।

◆ अफ़ग़ानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट के बाहर धमाका, कई लोगों के मारे जाने की ख़बर।

◆ काबुल पर तालिबान का कब्ज़े के लिए पाकिस्तान जिम्मेदार: अमरुल्ला सालेह।

◆ तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसानों के आंदोलन को 9 महीने ।

◆ ब्राजील की राजधानी ब्रासीलिया में सुप्रीम कोर्ट के सामने हजारों मूल निवासियों ने नाचते और नारे लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। यह विरोध मूल निवासियों के भूमि अधिकारों पर आए फैसले के विरोध में है।