January 27, 2022

किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर रोक नहीं, बल्कि उन्हें कानून के दायरे में लाने के पक्ष में :सूचना प्रौद्यगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद

 1,722 total views,  2 views today

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज कहा कि सरकार किसी भी सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म पर रोक लगाने के हक में नहीं है, लेकिन उन्‍हें नियमों का पालन करना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री सहित करीब आधे सरकारी विभाग अगर ट्वीटर का इस्‍तेमाल कर रहे हैं, तो यह स्‍पष्‍ट है कि सरकार कितनी निष्‍पक्ष है। श्री प्रसाद ने कहा कि जब वाशिंगटन में कैपिटॉल हिल पर अचानक धावा बोला गया था, तब ट्वीटर ने वहां के राष्‍ट्रपति सहित सभी के खाते बंद कर दिए थे।

सबका अपना महत्त्व है

केन्‍द्रीय मंत्री ने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान जब लाल किले पर आतंकवादियों के समर्थकों ने धावा बोला था और तलवार लहराते हुए पुलिस कर्मियों को घायल कर रहे थे और उन्‍हें गढ्डों में धकेल रहे थे, तो क्‍या यह अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता थी। उन्‍होंने कहा कि अगर कैपिटॉल हिल अमरीका के लिए गौरव की बात है, तो लाल किला, जहां प्रधानमंत्री तिरंगा फहराते हैं, उसका भी उतना ही महत्‍व है।

लद्दाख के कुछ हिस्सों को चीन का बताया

उन्‍होंने लद्दाख के कुछ हिस्‍से को चीन का बताया जाने को लेकर भी ट्वीटर की आलोचना की। उन्‍होंने कहा कि इसे ठीक कराने के लिए करीब दो सप्‍ताह का समय लगा था। उन्‍होंने कहा कि एक लोकतांत्रिक देश के रूप में भारत को अपनी डिजिटल संप्रभुता की सुरक्षा करने का पूरा अधिकार है।

नियमों की अनदेखी सही नहीं

गाजियाबाद की घटना पर श्री प्रसाद ने कहा कि इसकी जांच करना पुलिस का काम है। उन्‍होंने कहा कि यदि ट्वीटर पर कुछ संदेशों को तोड़-मरोड़कर डाला गया कहा जा सकता है, तो गाजियाबाद के मामले में ऐसा क्‍यों नहीं हो सकता। उन्‍होंने कहा कि अगर मीडिया मंत्री से कोई सवाल करता है, तो यह अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता है, लेकिन इसकी आड़ में यदि नियमों की अनदेखी की जाती है, तो फिर यह तर्कसंगत नहीं है।