October 26, 2021

संसद का वर्षाकालीन सत्र आज से शुरू, 13 तारीख को होगा संपन्न

 2,284 total views,  2 views today

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के वर्षाकालीन सत्र में स्वस्थ और सार्थक विचार-विमर्श का आह्वान किया है और इसके लिए सभी राजनीतिक दलों से सहयोग मांगा है। कल संसद भवन में सर्वदलीय बैठक में श्री मोदी ने आशा व्यक्त की कि सत्र सुचारु रूप से चलेगा और सभी विधायी कामकाज पूरे किए जाएंगे। सर्वदलीय बैठक दोनों सदनों की सुचारु कार्यवाही सुनिश्चित करने में सभी राजनीतिक दलों से सहयोग की अपील के लिए बुलाई गई थी। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओबरायन और डीएमके पार्टी के तिरुचि शिवा भी बैठक में उपस्थित थे।

दोनों सदनों में सार्थक विचार-विमर्श होना चाहिए

बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि सांसदों ने बहुमूल्य सुझाव दिए हैं और दोनों सदनों में सार्थक विचार-विमर्श होना चाहिए। उन्होंने आश्वासन दिया कि सांसदों के सुझावों को लागू करने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र की परंपराओं के अनुसार जनहित से संबंधित मुद्दे सौहार्दपूर्ण ढंग से उठाए जाने चाहिए और सरकार को इस विचार-विमर्श पर प्रतिक्रिया के लिए अवसर दिया जाना चाहिए। श्री मोदी ने कहा कि सुचारू माहौल बनाना सबकी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि जन प्रतिनिधियों को जमीनी स्तर पर स्थिति की जानकारी होती है और विचार-विमर्श में उनकी भागीदारी से निर्णय लेने की प्रक्रिया मजबूत होती है।

संसद का वर्षाकालीन सत्र आज से शुरू

संसद का वर्षाकालीन सत्र आज से शुरू हो रहा है। सत्र के दौरान 19 बैठकें होंगी। इसमें सरकारी कामकाज से संबंधित 31 विषय निपटाए जाएंगे। इनमें 29 विधेयक और दो वित्तीय प्रस्‍ताव शामिल होंगे।


छह विधेयक अध्यादेशों का स्थान लेंगे जो ये हैं –

* अभिकरण सुधार (सेवा युक्तिकरण और शर्तें) विधेयक, 2021
* दिवाला और ऋण शोधन अक्षमता संहिता (संशोधन) विधेयक, 2021
* राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन  आयोग विधेयक, 2021
* अनिवार्य रक्षा सेवा विधेयक, 2021
* भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (संशोधन) विधेयक, 2021
* होम्योपैथी केंद्रीय परिषद (संशोधन) विधेयक, 2021
 
लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही सुबह ग्यारह बजे शुरू होगी। अधिवेशन अगले महीने की 13 तारीख को संपन्न होगा। इस दौरान कोविड संबंधी नियमों का सख्ती से पालन किया जाएगा।