August 14, 2022

तीन दिन की अमेरिकी यात्रा के बाद 157 प्राचीन कलाकृतियों के साथ स्वदेश लौटे पीएम मोदी, जानें कितनी खास हैं ये कलाकृतियां

 1,356 total views,  2 views today

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी तीन दिन की अमेरिकी यात्रा के समापन पर शनिवार को स्वदेश के लिए रवाना हो गए। अमेरिकी यात्रा के अंतिम कार्यक्रम के रूप में उन्होंने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें अधिवेशन को संबोधित किया। अपने संबोधन में मोदी ने आतंकवाद और उग्रवादी विचारधारा के खतरे के प्रति दुनिया को आगाह किया। पाकिस्तान का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि जो लोग आतंकवाद को राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करते हैं उन्हें यह याद रखना चाहिए कि वह स्वयं इसका शिकार बन सकते हैं। मोदी ने अफगानिस्तान में आतंकवाद पर अपने और वहां से आतंकवादी हमले होने की आशंका के प्रति भी दुनिया को सावधान किया। प्रधानमंत्री 157 प्राचीन कलाकृतियों और पुरातत्व सामग्री साथ ला रहे हैं। अमेरिकी सरकार ने यह कलाकृतियां उन्हें सौंपी है।

कई मूर्तियों हैं बहुत प्राचीन

इन कलाकृतियों में 12वीं शताब्दी की एक नटराज की मूर्ति भी शामिल है। लगभग 45 कलाकृतियां ऐसी है, जो ईसा पूर्व की हैं तथा हिंदू, बौद्ध और जैन धर्म से संबंधित हैं। इनमें लक्ष्मी नारायण, भगवान बुद्ध, विष्णु, शिव व पार्वती, जैन तीर्थंकर आदि से जुड़ी कलाकृतियां भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री ने इन प्राचीन कलाकृतियों को भारत को सौंपे जाने के लिए अमेरिकी सरकार का आभार व्यक्त किया। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि राष्ट्रपति जो बाइडेन प्राचीन कलाकृतियों की चोरी, अवैध व्यापार और तस्करी को खत्म करने के लिए कृत संकल्प हैं।

कुल 157 कलाकृतियां और पुरावशेष भारत वापस लाएंगे

157 कलाकृतियों की सूची में 10वीं CE के बलुआ पत्थर में रेवंत के डेढ़ मीटर बेस रिलीफ पैनल। 12वीं CE का 8.5 सेंटीमीटर लंबी उत्तम कांस्य की नटराज की मूर्ति शामिल है। कलाकृतियां बड़े पैमाने पर 11वीं सीई से 14वीं सीई की अवधि की है, साथ-साथ ऐतिहासिक पुरातनता जैसे 2000 ईसा पूर्व के तांबा मानवकृति या दूसरी सीई का टेराकोटा फूलदान से संबंधित हैं। 45 प्राचीन वस्तुएं सामान्य युग से पहले की हैं। जबकि आधी कलाकृतियाँ (71) सांस्कृतिक हैं, दूसरी आधी में मूर्तियाँ हैं जो हिंदू धर्म (60), बौद्ध धर्म (16) और जैन धर्म (9) से संबंधित हैं।

क्यों खास हैं ये कलाकृतियां

मूर्तियों निर्माण धातु, पत्थर और टेराकोटा में हुआ है। कांस्य संग्रह में मुख्य रूप से लक्ष्मी नारायण, बुद्ध, विष्णु, शिव पार्वती और 24 जैन तीर्थंकरों की प्रसिद्ध मुद्राओं की अलंकृत मूर्तियाँ हैं और अन्य अनाम देवताओं और दिव्य आकृतियों के अलावा कम सामान्य कंकलमूर्ति, ब्राह्मी और नंदीकेश हैं। हिंदू धर्म से धार्मिक मूर्तियां (तीन सिर वाले ब्रह्मा, रथ चलाते सूर्य, विष्णु और उनकी पत्नी, शिव की दक्षिणामूर्ति, नृत्य गणेश आदि), बौद्ध धर्म (स्थायी बुद्ध, बोधिसत्व मजूश्री, तारा) और जैन धर्म (जैन तीर्थंकर, पद्मासन तीर्थंकर, जैन चौबीसी) शामिल हैं। इसके साथ-साथ धर्मनिरपेक्ष कलाकृतियां (समाभंगा में अनाकार युगल, चौरी वाहक, ढोल बजाती महिला आदि) शामिल है। 56 टेराकोटा टुकड़े जिसमें फूलदान 2 सीई, हिरण की जोड़ी 12वीं सीई, 14वीं सीई की महिला की अर्धमूर्ति और म्यान के साथ 18वीं सीई की तलवार है जिसमें फारसी में गुरु हरगोविंद सिंह का उल्लेख उत्कीर्ण है। सरकार द्वारा दुनिया भर से हमारी पुरावशेषों और कलाकृतियों को वापस लाने के प्रयास जारी है।