December 5, 2022

शरणार्थियों को भी मिल रहा बेहतर मौका टोक्यो ओलंपिक में

 6,247 total views,  2 views today

ओलिंपिक में एक ऐसी भी टीम है, जो किसी देश की नहीं है और उसमें कई देश के खिलाड़ी हैं। इसे शरणार्थी ओलंपिक टीम कहा जाता है। शरणार्थी ओलंपिक टीम, 2016 ओलंपिक के लिए अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा बनाई गई थी ताकि एथलीटों को प्रतिस्पर्धा जारी रखने की अनुमति मिल सके, भले ही उन्हें अपना देश मजबूरन छोड़ना पड़ा हो। रियो डी जनेरियो ओलंपिक खेलों में इस टीम में 10 एथलीट थे और इस बार टोक्यो में 29 एथलीटों के साथ शामिल हुई है।

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा 8 जून को कुल 55 एथलीटों में से यह टीम चुनी गई

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा 8 जून को कुल 55 एथलीटों में से यह टीम चुनी गई है। ये सब वह खिलाड़ी हैं, जिन्हें अपने देश को छोड़ना पड़ा और नए देश में खेलों के प्रशिक्षण के लिए छात्रवृत्ति प्राप्त की।

इन देशों के हैं ये खिलाड़ी

2016 रियो डी जनेरियो ओलंपिक शरणार्थी टीम के लिए पहला ओलंपिक था, जिसमें 10 एथलीटों ने भाग लिया था। एथलीटों की यह संख्या टोक्यो में बढ़कर 29 हो गई है। शरणार्थी ओलंपिक टीम में मूल रूप से अफगानिस्तान, कैमरून, कांगो, कांगो गणराज्य, इरिट्रिया, इराक, दक्षिण सूडान, सूडान, सीरिया और वेनेजुएला के एथलीट हैं।

इन खेलों में लेंगे हिस्सा

शरणार्थी ओलंपिक टीम के खिलाड़ी तैराकी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, मुक्केबाजी, कैनोइंग, साइकिलिंग, जूडो, कराटे, शूटिंग, ताइक्वांडो, भारोत्तोलन और कुश्ती प्रतियोगिताओं में भाग लेंगे।

पदक भी किया अपने नाम

शरणार्थी ओलंपिक टीम ने रियो ओलंपिक में पदक भी अपने नाम किया था। किमिया अलीजादेह ने 2016 में ईरान के लिए ताइक्वांडो में कांस्य पदक जीता था, लेकिन पिछले साल जर्मनी चली गईं, यह कहते हुए कि उन्हें अधिकारियों से सेक्सिज्म का शिकार होना पड़ा क्योंकि उन्होंने हेडस्कार्फ पहनने पर आपत्ति जताई। एक शरणार्थी के रूप में मेहनत करते हुए, चोटों के बावजूद अपने करियर को संभाला और टोक्यो के लिए क्वालीफाई किया, जहां किमिया अलीजादेह अपने शुरुआती मुकाबले में ईरान का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रतिद्वंद्वी को हराया।

आईओसी और यूएनएचसीआर करता है टीम का प्रबंधन

टोक्यो में शरणार्थी टीम का प्रबंधन अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) और संयुक्त राष्ट्र की जिनेवा स्थित शरणार्थी एजेंसी, यूएनएचसीआर के अधिकारियों द्वारा किया जा रहा है। आपको बता दें, पैरालिंपिक में भी एक शरणार्थी टीम है।

इसकी शुरुआत कैसे हुई

जब आईओसी ने मार्च 2016 में शरणार्थी दल की घोषणा की, उस समय सीरिया में हो रहा युद्ध, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, सबसे बड़े विस्थापन संकट में लाखों लोगों को देश छोड़ने पर मजबूर होना पड़ रहा था। आईओसी ने राष्ट्रीय ओलंपिक अधिकारियों को दुनिया भर के विस्थापित एथलीटों तक पहुंचने के लिए प्रोत्साहित किया और रियो के लिए 43 उम्मीदवारों के पूल में से 10 एथलीटों का चयन किया।