July 6, 2022

जिलाधिकारी ने कोसी पुर्नजनन अभियान कार्यो की समीक्षा बैठक करते हुए कहा कि अभियान के तहत अल्मोड़ा के नौलों का भी होगा जीर्णोद्धार

 4,610 total views,  2 views today

अल्मोड़ा : जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने आज एनआईसी सभागार में कोसी पुर्नजनन अभियान के कार्यों की समीक्षा वर्चुअल माध्यम से की। बैठक में उन्होंने अभी तक किये गये कार्यों की प्रगति की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पौधरोपण के अलावा रिचार्ज जोन में कई गतिविधियाॅ आयोजित की जानी है।

हरेला के दिन किया जाएगा वृक्षारोपण

जिलाधिकारी ने कहा कि 16 जुलाई को हरेला पर्व के दिन काकड़ीघाट के पास सिरोतागाड़ में वृहद वृक्षारोपण किया जायेगा। इस दिन सभी आम जनमानस के सहयोग से पौधारोपण किया जायेगा। इसके लिये उन्होंने वन विभाग व जीबीपंत संस्थान के अधिकारियों के अच्छी प्रजाति के पौधो उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अभियान के तहत अल्मोड़ा के नौलों का जीर्णाद्वार किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नौले अल्मोड़ा की विरासत है जिन्हें संरक्षित रखना हम सब की जिम्मेदारी है ताकि आने वाले पीढ़ी को यहां की विरासत के बारे में जानकारी मिल सके। उन्होंने कहा कि जिन-जिन कैंचमेंट एरिया में पौधारोपण किया जाता है उन जगहांे पर पौधों की देखभाल अवश्य रूप से की जाय। 

सभी महिलाओं को इस अभियान से जोड़ने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा

उन्होंने कहा कि कैचमेंट क्षेत्र में एक गाॅव को चयनित कर जल संरक्षण से सम्बन्धित कार्य कराये जायेंगे जिसमें सफलता मिलने के उपरान्त अन्य गाॅवों में इसे कराया जायेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि अभियान के अन्तर्गत स्थानीय युवाओं, महिला मंगलदलो को रोजगार के लिए प्रेरित् करने के उददेश्य से प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किये जायेंगे जिसमें युवाओं को जल संरक्षण एवं संवर्द्धन का प्रशिक्षण दिया जायेगा इसके अलावा इस क्षेत्र में कार्य कर रही महिलाओं एवं स्वयं सहायता समूहों को भी इस अभियान से जोड़ते हुए प्रशिक्षित किया जायेगा।

सभी को मिलकर इस योजना पर कार्य करना होगा

जिलाधिकारी ने कहा कि वन पंचायतों के माध्यम से भी जल संरक्षण एवं संवर्द्धन हेतु कई कार्य कोसी कैचमेंट एरिया में कराये जाय। उन्होंने कहा कि हम सब को मिलकर इस योजना पर कार्य को कराना होगा ताकि हमें इस कार्य में सफलता मिल सके। इस दौरान कोसी सैल के समन्वयक शिवेन्द्र प्रताप द्वारा पावर पांइट के माध्यम से गगास नदी के पुर्नजनन अभियान की कार्ययोजना के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस अभियान के तहत ब्लाकवार 11 रिर्चाज जोन बनाये गये जिनमें ताड़ीखेत, द्वाराहाट एवं भिकियासैण है। 

बैठक में इतने लोग रहे मौजूद

बैठक में प्रभागीय वनाधिकारी महातिम यादव, मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे, एनआरडीएमएस के प्रो0जे0एस0रावत, जी0बी0पंत संस्थान के निदेशक डा0 किरीट कुमार ने अपने कई सुझाव दिये। बैठक में जिला विकास अधिकारी के0के0 पंत, क्षेत्रीय पुरातत्व अधिकारी सी0एस0 चैहान, डा0 वसुधा, खण्ड विकास अधिकारी हवालबाग पंकज काण्डपाल आदि उपस्थित थे।