July 5, 2022

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के राज्याभिषेक के साथ सम्पन्न हुआ तीन दिवसीय महिलाओं की रामलीला का मंचन, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत रहे मुख्य अतिथि

 1,297 total views,  2 views today

श्री भुवनेश्वर महादेव मंदिर एवं रामलीला समिति कर्नाटक खोला अल्मोड़ा में आयोजित रामलीला महोत्सव 2021 के समापन के अवसर पर मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम के राज्याभिषेक का भव्य मंचन किया गया। मंचन के दौरान दुष्ट राक्षसों का दमन कर मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम अयोध्या पहुंचे और समस्त प्रजाजनों के समक्ष उनका मंत्रोच्चारण के साथ विधिवत राज्याभिषेक किया गया।

भगवान श्री राम के जीवन चरित्र एवं आदर्शो को अपनाने का लिया संकल्प

मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम के राज्याभिषेक के मनोरम दृश्य का आनन्द लेने सैकडों की संख्या में दर्शक रामलीला मैदान में पहुंचे और राज्याभिषेक के पश्चात राम आरती और भजन का आनंद लिया। साथ ही दर्शकों ने भगवान श्री राम के जीवन चरित्र एवं आदर्शो को आत्मसात करने तथा उनसे प्रेरित होकर अपने जीवन में अपनाने का संकल्प लिया। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया। संस्था के संरक्षक एवं संयोजक पूर्व दर्जा मंत्री बिट्टू कर्नाटक ने मुख्य अतिथि हरीश रावत को अंगवस्त्र एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका स्वागत एवं अभिनन्दन किया। साथ ही उन्होंने सम्मानित नागरिकों को अवगत कराया कि रामलीला समिति के भव्य और बहुउद्देशीय भवन की स्वीकृति पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा स्वीकृत करते हुये धनराशि अवमुक्त करायी गयी। उन्हीं के प्रयास से आज रामलीला समिति गायन शैली की इस ऐतिहासिक कुमांऊनी रामलीला का भव्य मंचन स्थानीय दर्शकों को ही नहीं बल्कि देश -विदेश के लाखें लोगों को ऑनलाइन माध्यम से भी दिखाने में सफल रही है।

कलाकारों से मिलने एवं उनका हौसला बढाने से अपने आप को नहीं रोक पाए

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने सम्बोधन में कहा कि रामलीला समिति कर्नाटक खोला की विशेष रामलीला को देखने वे कई बार इस मंच पर उपस्थित हुये हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष विशेष रूप से आयोजित महिलाओं की तीन दिवसीय ऐतिहासिक रामलीला जिसकी धूम पूरे उत्तराखण्ड में मची हुई है उसके सभी कलाकारों से मिलने एवं उनका हौसला बढ़ाने से वे अपने को रोक नहीं पाये और राज्याभिषेक के अवसर पर यहां पहुंच गए। उन्होंने कहा कि महिलाओं को समाज की मुख्य धारा में लाने तथा महिला सशक्तीकरण के लिये महिलाओं द्वारा मंचित रामलीला दिखाने का जो प्रयास संस्था के संरक्षक,संयोजक पूर्व मंत्री बिट्टू
कर्नाटक द्वारा किया गया है वह सराहनीय है और रामलीला के सफल नेतृत्व के लिये वे बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम का आर्शिवाद प्राप्त हुआ तो कांग्रेस की सरकार बनने पर वे दर्शक दीर्घा के अवशेष कार्य जिसमें बैठने की व्यवस्था व दर्शक दीर्घा में छत निर्माण कराने का प्रयास करेंगे ताकि दर्शकों को पाले व बारिश के कारण कठिनाई न हो और वे बिना किसी बाधा के रामलीला मंचन का आनन्द ले सकें। हरीश रावत द्वारा मुख्य कलाकारों को पारितोषिक का वितरण कर उनके अभिनय की सराहना की गयी।इस अवसर पर संस्कार संरक्षण एवं पर्यावरण समिति अल्मोडा की टीम ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर दर्शकों को भाव-विभोर किया। इसके बाद कलाकारों,कार्यकर्ताओं को पारितोषिक का वितरण किया गया तथा सम्मानित नागरिकों को अंगवस्त्र भेंट कर उनका अभिनन्दन एवं आभार व्यक्त किया गया।

इन कलाकारों द्वारा किया गया रामलीला का भव्य मंचन

भगवान श्री राम की भूमिका में दिव्या पाटनी, लक्ष्मण-किरन कोरंगा, सीता-वैभवी कर्नाटक,भरत-भूमि पाण्डे, शत्रुध्न-अंशु नेगी, हनुमान-मिनाक्षी जोशी, विश्वामित्र-रीता पाण्डे, वशिष्ठ-कविता पाण्डे की भूमिका में नजर आए। इसी के साथ महिलाओं द्वारा मंचित तीन दिवसीय रामलीला का समापन किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन बिट्टू कश्यप द्वारा किया गया ।