October 22, 2021

आज है हिंदी साहित्य के कलमकार मुंशी प्रेमचंद की 141 वीं जयंती

 2,326 total views,  4 views today

उत्तर प्रदेश में वाराणसी के लमही गांव के डाक मुंशी अजायबलाल के घर 31 जुलाई 1880 को जन्मे धनपत राय श्रीवास्तव उर्फ मुंशी प्रेमचंद की आज हम 141 वीं जयंती मना रहे हैं। उन दिनों उनके परिवार के पास केवल छह बीघा जमीन ही थी, लेकिन बड़ा परिवार होने के कारण घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। कायस्थ कुल के धनपत राय का बचपन खेत-खलिहानों में ही बीता। हालांकि प्रेमचंद एक वकील बनना चाहते थे, लेकिन आर्थिक तंगी के चलते उनका वह सपना पूरा नहीं हो सका। जब वे केवल आठ वर्ष के थे, तभी उनके सिर से मां का साया उठ गया था। पिता ने कुछ वर्षों बाद दूसरी शादी कर ली और महज 15 साल की आयु उनका विवाह हो गया, लेकिन वह ज्यादा लंबा न चल सका।

नौकरी के साथ ही उन्होंने पढ़ाई जारी रखी

तमाम समस्याओं से जूझते हुए 1898 में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की, जिसके बाद एक स्थानीय विद्यालय में शिक्षक नियुक्त हो गए। नौकरी के साथ ही उन्होंने पढ़ाई जारी रखी। 1910 में उन्होंने अंग्रेजी, दर्शन, फारसी और इतिहास लेकर इंटर पास किया और 1919 में बीए पास करने के बाद शिक्षा विभाग के इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हुए।

विधवा विवाह के रहे समर्थक

उस काल में मुंशी प्रेम चंद आर्य समाज से प्रभावित रहे, जो उस समय का बहुत बड़ा धार्मिक और सामाजिक आंदोलन था। उन्होंने विधवा-विवाह का समर्थन किया और 1905 में दूसरा विवाह अपनी प्रगतिशील परंपरा के अनुरूप विधवा शिवरानी देवी से किया। उन्होंने आरंभिक लेखन जजमान पत्रिका में ही किया। वैसे तो उन्होंने 13 वर्ष की उम्र में लेखन कार्य शुरू कर दिया था, लेकिन उनके लेखन में परिपक्वता शिवरानी से विवाह के बाद ही आई थी, जिससे उनके लेखन की मांग बढ़ने लगी। उनकी दूसरी पत्नी शिवरानी ने ही बाद में उनकी जीवनी लिखी थी।

सरकारी नौकरी से त्यागपत्र

जिस काल खंड में मुंशी प्रेम चंद रहे वह भारतीय इतिहास में बहुत महत्वपूर्ण है। एक दिन वे बालेमियां मैदान में महात्मा गांधी का भाषण सुनने गए और उनके विचारों से इस कदर प्रभावित हुए कि उन्होंने ब्रिटिश सरकार की सरकारी नौकरी से त्यागपत्र दे दिया और उसके बाद पूरी तरह से स्वतंत्र लेखन में जुट गए।

मुंशी प्रेमचंद की रचनाएं

अपने जीवनकाल में मुंशी प्रेमचंद ने कुल 15 उपन्यास, 300 से अधिक कहानियां, 3 नाटक, 10 अनुवाद, 7 बाल पुस्तकें और हजारों की संख्या में लेखों व संस्मरणों की रचना की। उनके चर्चित उपन्यासों में बाजार-ए-हुस्न (उर्दू में), गोदान, कर्मभूमि, गबन, सेवा सदन, कायाकल्प, मनोरमा, निर्मला, प्रतिज्ञा प्रेमाश्रम, रंगभूमि, वरदान, प्रेमा इत्यादि और कहानियों में पूस की रात, नमक का दरोगा, बूढ़ी काकी, ईदगाह, दो बैलों की कथा, कफन, मंत्र, नशा, शतरंज के खिलाड़ी, आत्माराम, बड़े भाई साहब, बड़े घर की बेटी, उधार की घड़ी, जुर्माना इत्यादि बहुत प्रसिद्ध रही। अपना अंतिम कालजयी उपन्यास ‘गोदान’ उन्होंने वर्ष 1936 में लिखा, जो बेहद चर्चित रहा और आज भी आधुनिक क्लासिक माना जाता है।

अंग्रेज सरकार ने फिल्म के प्रदर्शन पर लगाई पाबंदी

प्रेमचंद ने फिल्म इंडस्ट्री में भी किस्मत आजमाने का प्रयास किया था, किन्तु वहां वे असफल रहे। हालांकि 1934 में उनकी पहली फिल्म ‘मिल मजदूर’ रिलीज भी हुई, जिसमें कामकाजी वर्ग की समस्याओं को इतनी मजबूती से उठाया गया था कि अंग्रेज सरकार ने घबराकर फिल्म के प्रदर्शन पर पाबंदी लगा दी थी। उसके बाद प्रेमचंद समझ गए थे कि फिल्म इंडस्ट्री में के लिए वे नहीं बने और इसलिए 1935 में वापस वाराणसी लौट आए।

‘हिन्दी साहित्य के ‘माइलस्टोन’

‘उपन्यास सम्राट’ के विशेषण से उन्हें शरद चंद्र चट्टोपाध्याय ने नवाजा था, लेकिन यह उपाधि मिलने के बाद भी पाठकों के बीच वर्तमान में भी उनका कहानीकार का रूप ही स्वीकारा और सराहा जाता है। प्रेमचंद ऐसे कहानीकार और साहित्यकार थे, जिन्हें आज भी सबसे ज्यादा पढ़ा जाता रहा है। उन्हें ‘हिन्दी साहित्य का माइलस्टोन’ भी कहा जाता है।


आखिरी समय

अपने जीवन के आखिरी दिनों में प्रेमचंद जलोदर नामक बीमारी से ग्रसित हो गए थे और 8 अक्टूबर 1936 को हिन्दी साहित्य जगत में अटल शून्य छोड़ चिरनिद्रा में लीन हो गए। जिस तरह मुंशी प्रेमचंद की लेखनी थी उसी तरह उनका जीवन भी है, जिसे शब्दों में लपेटा संभव नहीं है। आज भी उनकी लेखनी प्रासंगिक है और तमाम युवाओं को भी अपनी ओर खिंचती है।