उत्तराखंड: सीएम धामी ने 15 ग्राम पंचायतों और 5 पर्यावरण मित्रों को दिया ‘स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2023’ सम्मान

उत्तराखंड से जुड़ी खबर सामने आई है। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने ‘स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2023’ के तहत 15 ग्राम पंचायतों और 5 पर्यावरण मित्रों को सम्मानित किया। इस दौरान उन्होंने ‘स्वच्छता ही सेवा गीत’ का विमोचन भी किया। सीएम धामी ने कहा कि स्वच्छता दूतों की वजह से स्वच्छता के मामले में उत्तराखंड ने नया अध्याय लिखने का काम किया है।

स्वच्छता के क्षेत्र में बेहतर काम करने वाले पर्यावरण मित्रों को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री आवास में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने स्वच्छता सेवा पखवाड़ा 2023 का शुभारंभ किया। इस दौरान सीएम धामी ने ‘स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2023’ के तहत 15 ग्राम पंचायतों को सम्मानित भी किया। इसके साथ ही स्वच्छता के क्षेत्र में बेहतर काम करने वाले 5 पर्यावरण मित्रों को भी सम्मानित किया गया।

सीएम धामी ने स्वच्छता ही सेवा गीत का किया विमोचन

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ‘स्वच्छता ही सेवा गीत’ का भी विमोचन किया। सीएम धामी ने स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण 2023 पुरस्कार के लिए चयनित 15 पंचायतों को बधाई दी. साथ ही कहा कि स्वच्छता के इस महा अभियान में बेहतर योगदान देने वाली सभी पंचायतों और स्वच्छता दूतों के आभारी हैं, जिनकी संकल्प, शक्ति और प्रयासों ने उत्तराखंड में स्वच्छता का एक नया अध्याय लिखा है।

स्वच्छता दूत ही स्वच्छता अभियान की है धुरी

सीएम धामी ने कहा कि स्वच्छता दूत ही स्वच्छता अभियान की धुरी हैं। स्वच्छता के क्षेत्र में जो सम्मान राज्य को मिला है, वो इन स्वच्छता दूत के बिना असंभव था। भारतीय संस्कृति और दर्शन में स्वच्छता हमेशा से ही सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। इतना ही नहीं ये हमारे मूल्यों और संस्कारों का एक अभिन्न हिस्सा है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में चल रहे स्वच्छ भारत मिशन के चलते देश में स्वच्छता का फिर से आगाज हुआ है। जिसकी सफलता की चर्चा पूरी दुनिया में हो रही है।

2 अक्टूबर तक स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का किया जाएगा आयोजन

वहीं, सीएम धामी ने कहा कि सरकार के प्रयास के साथ ही लोगों की भागीदारी भी जुड़ रही है। इससे सरकार के प्रयासों की शक्ति भी बढ़ जाती है। उत्तराखंड की धरती धार्मिक और पौराणिक है। इस भूमि के कण कण में देवी और देवता वास करते है। ऐसे में देवता उसी भूमि पर वास करते हैं, जहां स्वच्छता होती है। ऐसे में स्वच्छता बेहद जरूरी है। सरकार द्वारा 17 सितंबर से 2 अक्टूबर तक स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।