October 19, 2021

उत्तराखंड: सात जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी, चार दिनों तक झमाझम बारिश के आसार, सावधानी बरतने की जरुरत

 2,743 total views,  2 views today

पहाड़ों से लेकर प्रदेश के मैदानी क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित है। मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश में आज से बारिश में थोड़ी कमी देखने को मिल सकती है। हालांकि उत्तरकाशी, देहरादून, टिहरी, हरिद्वार, नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इन क्षेत्रों में आज भी भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है।

आठ मोटर-मार्ग अवरुद्ध

उधर भारी बारिश के कारण पौड़ी जिले में बंद पड़े 22 ग्रामीण मोटर मार्गों और एक जिला प्रमुख मोटर मार्ग को खोल दिया गया है। अब आठ मोटर-मार्ग अवरुद्ध हैं। बारिश बन्द होते ही मोटर मार्गों को खोलने का कार्य किया जा रहा है।

वाहनों की आवाजाही बंद होने से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है

वहीं हल्द्वानी- नैनीताल राष्ट्रीय राजमार्ग 109 डोलमार के पास मलबा आने से अवरुद्ध है जिसके कारण रास्ते पर जाम के हालात बने हुए है। हालाकि मलबा हटाने का कार्य जारी है। उधर बागेश्वर और चमोली में बीती दो रात से बारिश जारी है।
काठगोदाम में हल्द्वानी और भीमताल को जोड़ने वाला रानी बाग पुल का एक हिस्सा भारी बारिश के कारण क्षतिग्रस्त हो गया है। जिसके बाद पुल पर वाहनों की आवाजाही को फिलहाल के लिए बंद कर दिया गया है। वहीं वाहनों की आवाजाही बंद होने से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

कई सहायक सडकें बंद हो गई हैं

प्रदेश के उत्‍तरकाशी जिले में  मांडो गांव में कल सवेरे मूसलाधार बारिश से एक परिवार के तीन सदस्‍यों की मौत हो गई। चार लोग लापता हैं। राहत एवं बचाव कार्य लगातार जारी है। वहीं भारी बारिश से गंगोत्री-यमुनोत्री राष्‍ट्रीय राजमार्ग और कई सहायक सडकें बंद हो गई हैं

उत्तराखंड के लिए 4 दिनों का जनपदस्तरीय मौसम पूर्वानुमान

उत्तराखंड राज्य के अधिकांश स्थानों में हल्की से मध्यम वर्षा  गर्जन के साथ बौछार का पूर्वानुमान लगाया गया है । सात जिलों में ऑरेंज ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है । इनमें उत्तरकाशी, देहरादून, टिहरी, हरिद्वार, नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ शामिल है । इन क्षेत्रों में आज भी भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है। इसके साथ ही अन्य स्थानों पर हल्की बारिश देखने को मिल सकती है ।इस प्रकार आगामी चार दिन तक  सावधानी बरतने की जरुरत है ।