December 3, 2022

उत्तराखंड: राज्य विश्वविद्यालयों में रिक्त चल रहे पदों पर जल्द होगी भर्ती, विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को खोले जाने पर शीघ्र लिया जाएगा निर्णय

 1,394 total views,  2 views today

पूरे देश में कोरोना महामारी का दौर चल रहा है। उत्तराखंड में भी यही हालात बने हुए हैं। वही उत्तराखंड से जुड़ी अच्छी खबर सामने आई है। बुधवार को उच्च शिक्षा, सहकारिता, प्रोटोकॉल एवं आपदा प्रबंधन राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत की अध्यक्षता में विधानसभा स्थित सभागार में आयोजित राज्य विश्वविद्यालयों की समीक्षा बैठक की, जिसमें कई अहम निर्णय लिए गए।

राज्य विश्वविद्यालयों में वर्षों से रिक्त चल रहे 394 पदों पर जल्द होगी भर्ती-

उत्तराखंड में राज्य विश्वविद्यालयों में वर्षों से रिक्त चल रहे 394 पदों पर तीन महीनों के भीतर भर्ती की जायेगी। जिसके लिए मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को वर्षों से रिक्त चल रहे शैक्षणिक एवं शिक्षणेत्तर पदों को तीन माह के भीतर भरने के निर्देश दिए।

विश्वविद्यालयों के प्रस्तावों को तैयार कर शासन को सौंपा जाएगा-

कुमाऊं विश्वविद्यालय व सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा में शैक्षणिक एवं शिक्षणेत्तर पदों के बंटवारे के लिए प्रभारी सचिव उच्च शिक्षा विनोद रतूड़ी एवं दोनों विश्वविद्यालय के कुलपतियों की समिति गठित की गई है, जिसमें शीघ्र प्रस्ताव तैयार किया जाएगा। जिसके बाद इसे शासन को सौंपा जाएगा।

विश्वविद्यालयों का दीक्षांत समारोह माह अक्टूबर में हो आयोजित-

मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि एक महीने में सभी विश्वविद्यालयों को डीजी लॉकर की सुविधा उपलब्ध करानी होगी व विश्वविद्यालयों का दीक्षांत समारोह माह अक्टूबर में आयोजित किया जायेगा। इसी के साथ अब एसबीएस महाविद्यालय रूद्रपुर को कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल का नया परिसर बनाया जायेगा। जिसके लिए कुलपति शासन को शीघ्र प्रस्ताव भेजेंगे।

सभी विश्वविद्यालयों में जल्द परीक्षाएं होंगी आयोजित-

सभी विश्वविद्यालयों में जल्द प्रथम सेमेस्टर एवं अंतिम सेमेस्टर के साथ ही प्रथम वर्ष एवं अंतिम वर्ष की ही परीक्षाएं आयोजित कराई जाएगी व शेष छात्रों को गत वर्ष की भांति प्रोन्नत किया जायेगा।

विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को खोलने पर जल्द होगा निर्णय-

मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को खोले जाने के संबंध में सरकार द्वारा शीघ्र निर्णय लिया जाएगा। जिसमें हालातों को देखकर फैसला लिया जाएगा।