July 3, 2022

उत्तराखंड: आज राज्य को मिल जाएगा नया मुख्यमंत्री, दोपहर तीन बजे से होगी विधायक दल की बैठक

 2,201 total views,  2 views today

उत्तराखंड: प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को अपने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है । उन्होंने राज्य भवन पहुँचकर राज्यपाल बेबी रानी मौर्या को इस्तीफा सौंपा । वह 10 मार्च को मुख्यमंत्री बने थे । उन्होंने पद से इस्तीफा देने की वजह संवैधानिक संकट बताया है । इसके साथ ही आज राज्य को नया मुख्यमंत्री मिल जाएगा । मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत अब तक के सबसे कम कार्यकाल वाले मुख्यमंत्री रहे । उनका कार्यकाल महज 10 मार्च 2021 से , 2 जुलाई 2021 यानी 115 दिन तक का रहा । यह उत्तराखंड राज्य का दुर्भाग्य है कि 9 नवम्बर 2000 में नया राज्य बनने के बाद से  21 सालों के भीतर  राज्य को 12 नए मुख्यमंत्री मिल गए हैं । जिसमें भुवन चंद्र  खंडूरी दो बार और हरीश रावत तीन बार मुख्यमंत्री पद पर आसीन रह चुके हैं ।अब सियासी हलचल के बीच यह देखना होगा की 11 वें मुख्यमंत्री की दावेदारी किसे मिलेगी ।

आइये जाने मुख्यमंत्री का कार्यकाल

1.नित्यानंद स्वामी                    09 नवंबर 2000 से 29 अक्तूबर 2001

2.भगत सिंह कोश्यारी              30 अक्तूबर 2001 से 01 मार्च 2002

3.एनडी तिवारी                       02 मार्च 2002 से 07 मार्च 2007

4.भुवन चंद्र खंडूरी                   08 मार्च 2007 से 23 जून 2009 (11 सितंबर 2011 से 13 मार्च 2012 में भी रहे)

5.रमेश पोखरियाल निंशक        24 जून 2009 से 10 सितंबर 2011        

6.विजय बहुगुणा                     13 मार्च 2012 से 31 जनवरी 2014

7.हरीश रावत                         1 फरवरी 2014 से 27 मार्च 2016 / 21 अप्रैल 2016 से 22 अप्रैल 2016 / 11 मई 2016 से 18 मार्च 2017

8.त्रिवेंद्र सिंह रावत                 18 मार्च 2017 से 09 मार्च 2021

9.तीरथ सिंह रावत                10 मार्च 2021(मुख्यमंत्री पद की शपथ ली)

संवैधानिक संकट खड़ा न हो इस बाबत दिया इस्तीफा

तीरथ सिंह रावत ने उतराखंड में संवैधानिक संकट न खड़ा हो इसलिए अपने पद से इस्तीफा दिया है,
उन्होंने  पत्र में कहा है कि आर्टिकल 164-ए के हिसाब से उन्हें मुख्यमंत्री बनने के बाद 6 महीने में विधानसभा का सदस्य बनना था, लेकिन आर्टिकल 151 कहता है कि अगर विधानसभा चुनाव में एक वर्ष से कम का समय बचता है तो वहा पर उप-चुनाव नहीं कराए जा सकते हैं । उतराखंड में संवैधानिक संकट न खड़ा हो, इसलिए मैं मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहता हूं ।

3 माह में किये गए कार्यों की उपलब्धियां गिनाई

शुक्रवार को दिल्ली से देहरादून पहुँचने के बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमे उन्होंने अपने तीन माह के किये गए कार्यों की उपलब्धियां गिनाई मीडियाकर्मीयों के इस्तीफे के विषय में पूछे जाने पर वह कुछ नहीं बोले, उन्होंने कहा कि हम हर विभाग में नियुक्तियां करने जा रहे है । इसकी तैयारी पहले से की जा चुकी थी , बस घोषणा करनी थी । इसके साथ ही अन्य उपलब्धियां गिनाते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने कोरोना से निजात पाने के लिए भी कई प्रभावी कदम उठाये हैं ।

आज दोपहर 3 बजे से बैठक की जाएगी

मुख्यमंत्री के इस्तीफा देने के बाद विधानसभा दल की बैठक आज दोपहर 3 :00 बजे से  आयोजित की जाएगी  । माना जा रहा है कि इस बैठक में नए मुख्यमंत्री के नाम की चर्चा होगी, बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक करेंगे  । वहीं बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को उत्तराखंड के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाया है, कल वह राज्य में मौजूद रहेंगे । इसके साथ ही बीजेपी पार्टी के सभी भाजपा विधायक इस बैठक में उपस्थित होंगे ।

सीएम पद के दावेदारों के तौर पर इन विधायकों के नाम चर्चा पर हैं

सियासी हलचल के बीच जिन विधायकों के नाम
सीएम पद के दावेदारों के रूप में आ रहे हैं ।
उनमें कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत, राज्यमंत्री डॉ.धन सिंह रावत, कैबिनेट मंत्री बिशन सिंह चुफाल, पुष्कर सिंह धामी के नाम चर्चाओं में हैं। महिला दावेदार के रूप में पार्टी विधायक व पूर्व मुख्यमंत्री बीसी खंडूड़ी की पुत्री ऋतु खंडूड़ी का नाम लिया जा रहा है । वहीँ सीएम पद के दावेदारों में केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी को मजबूत दावेदारों के तौर पर देखा जा रहा है। वहीं तीरथ से पहले सीएम रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत को दोबारा सत्ता सौंपने की भी चर्चाएं हो रही है ।