August 15, 2022

अल्मोड़ा: आपरेशन कर दूरस्थ वन क्षेत्रों में छोड़े जा रहे है नगर के कटखने बंदर

 4,985 total views,  2 views today

दिनांक 10-9-2021 अल्मोड़ा नगर पालिका परिषद, अल्मोड़ा द्वारा अल्मोड़ा नगर के कटखने बन्दरों को पकड़कर उन्हें एन०टी०डी० स्थित बन्दरवाड़ा में पशु चिकित्सक अल्मोड़ा की टाम द्वारा उनका आपरेशन (बधियाकरण) करवाया जा रहा है । जिसके बाद वन विभाग द्वारा उन बन्दरों को गाड़ी में ले जाकर दूरस्थ वन क्षेत्रों में छोड़ा जा रहा है।

बन्दरों को पकड़कर उनकी नसबंदी की जा रही है-

पालिका द्वारा यह अभियान वर्ष 2018 से ही लगतार जारी है। पालिका द्वारा अभी तक नगर से 691 बन्दरों को पकड़कर उनका आपरेशन (बधियाकरण) करवाकर उन्हें दूरस्थ घने जंगलों में छोड़ा गया है। पालिका द्वारा प्रति बन्दर रू0 650/- व्यय किया जा रहा है।  जिस पर अभी तक 4,49,150 रूपये पालिका द्वारा व्यय किए जा चुके है ।

आवारा गोवंशीय पशुओं को नगर से पकड़कर गो सदन बाजपुर पंहुचाने का कार्य जारी-

पालिका द्वारा अल्मोड़ा नगर में घूम रहे आवारा गोवंशीय पशुओं को नगर से पकड़कर गो सदन बाजपुर पहुँचाये जाने का कार्य लगातार जारी है । पालिका द्वारा अभी तक 186 गोवंशीय पशुओं को नगर से पकड़कर गो-सदन बाजपुर भेजा जा चुका है। पालिका द्वारा प्रति गोवंशीय पशु को गो-सदन बाजपुर भेजे जाने पर प्रति पशु रू० 3,000/- व्यय किया जा रहा है, अभी तक पालिका द्वारा गो-सदन बाजपुर को रू0 219000/- का भुगतान किया जा चुका है । यह अभियान वर्ष 2015 से लगातार जारी है ।

श्वान पशुओं (कुत्तों) को पकड़कर उनका भी किया जा रहा है बन्ध्याकरण-

पालिका द्वारा अल्मोड़ा नगर में घूम रहे आवारा श्वान पशुओं (कुत्तों) को पकड़कर उनके नसबंदी का कार्य वर्ष 2016 से निरन्तर जारी है । पालिका द्वारा उन्हें पकड़कर एन०टी०डी० स्थित ए०बी०सी० सैन्टर में पहुँचाकर उनका बन्ध्याकरण करवाया जा रहा है । यह कार्य वर्ष 2016 से निरन्तर जारी है। पालिका द्वारा अभी तक 1116 श्वान पशुओं (कुत्तों) का प्रति श्वान पशु (कुत्ता) रू0 1,200/- की दर से नसबंदी करवाई जा चुकी है, जिस पर पालिका द्वारा अभी तक रू० 3,16800/- व्यय किया जा चुका है ।

इस आदेश की व्यवस्था दी गई-

मा० उच्चतम न्यायालय द्वारा पारित आदेश में यही व्यवस्था दी गई है कि नगर में घूम रहे बन्दरों को उनके प्राकृतिक आवास में ही छोड़ा जायेगा । तथा नगर के आवारा श्वान पशुओं की नसबंदी करवाना ही एक मात्र उपाय है, इन्हें बाँधकर नहीं रखा जा सकता है।

अधिशासी अधिकारी ने लोगों से की अपील-

अधिशासी अधिकारी श्याम सुन्दर प्रसाद ने नगर के तथा नगर से सटे ग्रामीण क्षेत्रों के सभी गो पालकों से अपील की है कि वे अपने गो-वंश को नगर में आवारा न छोड़े, तथा उन्हें अपने गोशालाओं / घर में बाँधकर रखें। यदि कोई भी व्यक्ति अपने पालतू गो वंश को नगर में आवारा छोड़ते हुए पाया जायेगा, तो उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही करते हुए उन्हें दण्डित किया जायेगा। साथ ही अपने पालतू कुत्तों को नगर में आवारा न छोड़े तथा उनका पालिका से लाइसैन्स अवश्य प्राप्त कर ले। साथ ही यह भी अपील की गई कि नगर में घूम रहे आवारा श्वान पशुओं को मा० उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश के क्रम में मुख्य सचिव, उत्तराखण्ड शासन द्वारा दिये गये निर्देश के अनुसार निराश्रित श्वान पशुओं की देखभाल एवं संरक्षण के लिए यदि कोई गैर सरकारी संगठनों एवं आमजन गोद लेने के इच्छुक हों तो वे गोद ले सकते हैं । इस सम्बन्ध में अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद, अल्मोड़ा मोंठनं० 8755633275 में सम्पर्क कर सकते हैं।